प्रकाश संश्लेषण या फोटोसिंथेसिस की पूरी जानकारी चित्र, डायग्राम, समीकरण और डेफिनेशन ( Photosynthesis in Hindi with diagram )

0 11

Photosynthesis in Hindi with diagram प्रकाश संश्लेषण सूत्र और डायग्राम के साथ

कभी आपने सोचा है कि जब हमें भूख लगती है तो हम भोजन बना कर या खरीद कर खाते हैं तो फिर जब पेड़ पौधों को भूख लगती है तो वो अपना भोजन कैसे बनाते हैं। क्योंकि पेड़ पौधों में भी जीवन है और उन्हें भी जीवित रहने के लिए और बढ़ने के लिए भोजन की आवश्यकता होती है। हाँ ये बात अलग है कि पौधे हमारी तरह मुँह से खाना नहीं खाते न ही उनका खाना हमारी तरह होता है पर पेड़ पौधे जड़ों से जल तथा अन्य पोषक तत्व लेकर प्रकाश की उपस्थिति में अपनी पत्तियों में मौजूद हरे तत्व की मदद से अपना भोजन या ग्लूकोज बनाते हैं और मौजूद कोशिकाओं की मदद से पेड़ के विभिन्न भागों में पहुंचाते हैं। इस पूरी क्रिया को ही हम प्रकाश संश्लेषण ( Photosynthesis ) इस पूरी क्रिया को विस्तार से जानने के लिए इस आर्टिकल को ध्यान से पढ़ें।

फोटोसिंथेसिस का मतलब | प्रकाश संश्लेषण किसे कहते हैं

पेड़ पौधों अपने आस पास की चीजों जैसे सूरज की रौशनी, कार्बन डाई ऑक्साइड और पानी की मदद से अपना भोजन खुद बना लेते हैं जिससे उनकी वृद्धि और पोषण होता है। पौधों की इस क्रिया को प्रकाश संश्लेषण या फोटोसिंथेसिस कहते हैं।

हम प्रकाश संश्लेषण की इस रासायनिक क्रिया को धरती पर भोजन का आधार कह सकते हैं। पेड़ पौधे प्रकाश संश्लेषण में प्रकाश, जल तथा कार्बनडाइऑक्साइड का इस्तेमाल करके ही भोजन बनाते है। इसी को मानव सहित अन्य जीव आहार श्रृंखला के आधार पर ग्रहण करते रहते हैं।

प्रकाश संश्लेषण की परिभाषा (Definition of Photosynthesis)

पेड़ और पौधों की सूर्य की सजीव कोशिकाओं के द्वारा प्रकाश की उपस्थिति में वायु से कार्बनडाइऑक्साइड तथा भूमि से जल लेकर जटिल कार्बनिक खाद्य पदार्थों जैसे कार्बोहाइड्रेट्स का निर्माण करते हैं तथा आक्सीजन गैस (O2) बाहर निकालते हैं। इस प्रकाशीय ऊर्जा को रासायनिक ऊर्जा में बदलने की क्रिया को फोटोसिंथेसिस या प्रकाश संश्लेषण कहते हैं।

फोटोसिंथेसिस इन हिंदी (Photosynthesis in hindi)

सजीव कोशिकाओं के द्वारा प्रकाशीय उर्जा को रासायनिक ऊर्जा में परिवर्तित करने की क्रिया, द्वारा सूर्य के प्रकाश की उपस्थिति में वायु से कार्बनडाइऑक्साइड तथा भूमि से जल लेकर जटिल कार्बनिक खाद्य पदार्थों जैसे कार्बोहाइड्रेट्स का निर्माण करते हैं तथा आक्सीजन गैस (O2) बाहर निकालते हैं।

फोटोसिंथेसिस क्या है (What is Photosynthesis)

फोटोसिंथेसिस या प्रकाश संश्लेषण एक रासायनिक प्रक्रिया है, जो प्रकृति में मौजूद कार्बन डाई ऑक्साइड को जैविक कम्पाउंड में तब्दील करती है।

फोटोसिंथेसिस डायग्राम (Photosynthesis Diagram)

फोटोसिंथेसिस मीनिंग इन इंग्लिश(Photosynthesis Meaning in English)

Photo (which means “light”) and Synthesis (which means “to put together”)

फोटो (जिसका अर्थ है “प्रकाश”) और संश्लेषण (जिसका अर्थ है “एक साथ रखना”)

प्रकाश संश्लेषण क्या है (Prakash sanshleshan kise kahate hain)

प्रकाश-संश्लेषण हरे पौधे सूर्य के प्रकाश द्वारा क्लोरोफिल नामक वर्णक की उपस्थिति में CO2 और जल के द्वारा कार्बोहाइड्रेट (भोज्य पदार्थ) का निर्माण करते हैं और ऑक्सीजन गैस बाहर निकालते हैं। इस प्रक्रिया को प्रकाश संश्लेषण कहते हैं। (2) इस प्रक्रिया में ऑक्सीजन का निर्माण होता है, जो कि जीवन के लिए अत्यावश्यक है।

प्रकाश संश्लेषण का चित्र दिखाइए (prakash sanshleshan ka chitra)

Photosynthesis Diagram
Photosynthesis Diagram

प्रकाश संश्लेषण का सूत्र (Prakash Sanshleshan ka sutra)

6 CO2 + 12 H2O + प्रकाश + क्लोरोफिल → C6H12O6 + 6 O2 + 6 H2O + क्लोरोफिल

ऊपर के इस प्रकाश संश्लेषण का समीकरण Equation of Photosynthesis को आप इस प्रकार भी लिख सकते हैं।

कार्बन डाइऑक्साइड + पानी -> ग्लूकोज + ऑक्सीजन + पानी इसे 6CO2 + 6H2O -> C6H12O6 + 6O2 के रूप में लिखा जा सकता है।

प्रकाश संश्लेषण का समीकरण क्या है (What is the Equation of Photosynthesis)

इस फोटोसिंथेसिस के लिये प्रकाश की उपस्थिति आवश्यक है। इस रासायनिक क्रिया में कार्बनडाइऑक्साइड (CO2) के 6 अणुओं और जल ( H2O ) के 12 अणुओं के बीच रासायनिक क्रिया होती है जिसके फलस्वरूप ग्लूकोज ग्लूकोज ( C6H12O6 ) के एक अणु, जल ( H2O ) के 6 अणु तथा ऑकसीजन ( O2 ) के 6 अणु उत्पन्न होते हैं।

इस क्रिया में मुख्य उत्पाद ग्लूकोज होता है तथा ऑक्सीजन और जल उप पदार्थ के रूप में मुक्त होते हैं। इस प्रतिक्रिया में उत्पन्न जल कोशिका द्वारा अवशोषित हो जाता है और फिर से जैव-रासायनिक प्रतिक्रियाओं में लग जाता है।

मुक्त ऑक्सीजन वातावरण में चली जाती है। इस मुक्त ऑक्सीजन का स्रोत जल के अणु है कार्बनडाइऑक्साइड के अणु नहीं। अभिक्रिया में सूर्य की विकिरण ऊर्जा का रूपान्तरण रासायनिक ऊर्जा में होता है। जो ग्लूकोज के अणुओं में संचित हो जाती है।

प्रकाश-संश्लेषण में पौधों द्वारा प्रति वर्ष लगभग 100 टेरावाट की सौर्य ऊर्जा को रासायनिक ऊर्जा के रूप में भोज्य पदार्थ के अणुओं में बाँध दिया जाता है। इस ऊर्जा का परिमाण पूरी मानव सभ्यता के वार्षिक ऊर्जा खर्च से भी ७ गुणा अधिक है।

यह ऊर्जा यहाँ स्थितिज ऊर्जा के रूप में संचित रहती है। अतः प्रकाश-संश्लेषण की क्रिया को ऊर्जा बंधन की क्रिया भी कहते हैं। इस प्रकार प्रकाश-संश्लेषण करने वाले सजीव लगभग 10,00,00,00,000 टन कार्बन को प्रति वर्ष जैव-पदार्थों में बदल देते हैं।

प्रकाश संश्लेषण कब होता है(When does Photosynthesis take place)

प्रकाश संश्लेषण की क्रिया कब होती है अगर हम इस बात पर विचार करें कि प्रकाश संश्लेषण के लिए किन किन चीजों आवश्यकता होती है तो हम हम भली भांति बता सकते हैं कि प्रकाश संश्लेषण होना कब संभव है और कब नहीं।

प्रकाश संश्लेषण की प्रक्रिया तब होती है जब हरे पौधे प्रकाश की ऊर्जा का इस्तेमाल कार्बन डाइऑक्साइड (CO2) और पानी (H2O) को कार्बोहाइड्रेट में बदलने के लिए करते हैं तथा आक्सीजन गैस (O2) बाहर निकालती है। यानि ये क्रिया तभी हो सकती है जब प्रकाश हो और वातावरण में कार्बनडाइऑक्साइड हो और पौधे को पानी भी उपलब्ध हो या हम सीधे सीधे कह सकते हैं कि प्रकाश संश्लेषण की क्रिया दिन में ही हो सकती है।

पृथ्वी पर सबसे अधिक प्रकाश संश्लेषण कहां होता है(Where on earth most Photosynthesis occurs)

प्रकाश संश्लेषण मुख्य रूप से पत्तियों में होता है और न के बराबर तने में होता है। यह क्लोरोप्लास्ट नामक विशेष कोशिका संरचनाओं के भीतर होता है।  पत्तियों में वृन्त (पेटियोल) या डंठल और पत्तियों का समतल भाग, पटल (लैमिना) होता है। क्योंकि इसका क्षेत्र चौड़ा होता है, पटल (लैमिना) प्रकाश संश्लेषण के दौरान सूर्य का प्रकाश और कार्बन डाइऑक्साइड का अवशोषण करने में मदद करता है।

प्रकाश संश्लेषण क्लोरोप्लास्ट में होता है। इसमें क्लोरोफिल मौजूद होता है। क्लोरोफिल सूर्य के प्रकाश से ऊर्जा का अवशोषण करता है। स्टोमेटा नामक छोटे छिद्र होते हैं। यह पौधों में कार्बन डाइऑक्साइड के प्रवेश के लिए और ऑक्सीजन के निकलने के लिए मार्ग का काम करता है।

प्रकाश संश्लेषण में रंगों का क्या कार्य है(What is the Function of Colors in Photosynthesis)

पौधे प्रकाश संश्लेषण की प्रक्रिया के लिए प्रकाश के केवल कुछ रंगों का इस्तेमाल करते हैं। क्लोरोफिल, नीले, लाल और बैंगनी प्रकाश किरणों को अवशोषित कर लेता। प्रकाश संश्लेषण प्रकाश की नीली और लाल किरणों में ज्यादा होता और हरे प्रकाश किरणों में कम या नहीं ही होता है।

प्रकाश संश्लेषण का चित्र (Photosynthesis  Diagram)

Photosynthesis  Diagram
Photosynthesis  Diagram

Image Credit – gkkhoj.com

प्रकाश संश्लेषण pdf (Photosynthesis pdf)

प्रकाश संश्लेषण को प्रभावित करने वाले कारक (Factors  Affecting  Photosynthesis)

प्रकाश-संश्लेषण की क्रिया को सबसे अधिक प्रभावित करने वाला कारक प्रकाश है चूँकि सूर्य के प्रकाश से पौधा इस क्रिया के लिए ऊर्जा प्राप्त करता है तथा अंधेरे से यह क्रिया सम्भव ही नहीं है। ऐसा देखा गया है कि प्रकाश की प्रखरता, प्रकाश की किस्म तथा प्रकाश का समय प्रकाश-संश्लेषण की क्रिया को प्रभावित करते हैं।

यदि पौधों में प्रकाश संश्लेषण नहीं हो तो क्या होगा(What happens if there is no photosynthesis in plants?)

पौधे प्रकाश संश्लेषण की क्रिया द्वारा भोजन का निर्माण करते हैं। तथा उन भोजन को पूरे पेड़ में तने द्वारा भेजा जाता है किंतु यदि पौधे प्रकाश संश्लेषण ना करे तो पत्तियां कभी भी भोजन नहीं बना पाएगी तथा भोजन पौधे के प्रत्येक भाग तक नहीं पहुंचा नहीं पहुंचेगा। जिससे पौधा धीरे धीरे मर जाएगा।


प्रकाश संश्लेषण का अंतिम उत्पाद क्या है(What is the End Product of Photosynthesis)

प्रकाश संश्लेषण का अंतिम उत्पाद कार्बोहाइड्रेट्स (Carbohydrate) होता है। जैसा कि हम जानते है कि जीवों को भोजन और हवा देने वाले पौधों को भी जीवित रहने के लिए भोजन की आवश्यकता होती है। पौधे भी अपना भोजन खुद बनाते और भोजन करते हैं। इस विधि को प्रकाश संश्लेषण (Photosynthesis) कहा जाता है।

See Also – असहयोग आंदोलन Non-Cooperation Movement In Hindi

See Also – What Is Plasmolysis In Biology प्लास्मोलिसिस क्या है

See Also – MPPSC Notes PDF Free Download In Hindi

See Also – UIDAI Aadhar Card |Download Print | Correction 2020 इ आधार कार्ड

See Also – UP Learning License यूपी लर्निंग लाइसेंस ऑनलाइन फॉर्म 2020 – 21 ( Parivahan )

Leave A Reply

Your email address will not be published.