M. Karunanidhi Age | Wiki | Career | Life | family in Hindi

M. Karunanidhi Age Wiki Career Life family in Hindi 

**M. Karunanidhi Age | Wiki | Career | Life in Hindi**

दोस्तों आज हम आपके साथ M. Karunanidhi यानी Muthuvel Karunanidhi के जीवन की कुछ ख़ास बातें आपके साथ शेयर करने जा रहे हैं जो न सिर्फ आपको भारत के एक वयोवृद्ध राजनीतिक नेता के जीवन के बारे में बताएंगी बल्कि आपके राजनीतिक और सम सामियिक ज्ञान में वृद्धि भी करेंगी। M. Karunanidhi 94 वर्ष के थे  और अपने साठ साल के राजनीतिक जीवन में पांच बार मुख्यमंत्री  बनकर  1969 से  2011 तक करीब बीस वर्षों तक तमिलनाडु के मुख्यमंत्री के रूप में शासन किया।

  • M. Karunanidhi का जन्म मुत्तुवेल और अंजुगम के यहां 3 जून 1924 को भारत के नागपट्टिनम के तिरुक्कुभलइ में दक्षिणमूर्ति के रूप में हुआ था।
  • M. Karunanidhi इसाई वेल्लालर समुदाय से संबंध रखते हैं।
  • M. Karunanidhi तमिलनाडुराज्य के एक द्रविड़ राजनीतिक दल द्रविड़ मुन्नेत्र कज़गम (डीएमके) के प्रमुख थे। वे 1969 में डीएमके के संस्थापक सी. एन. अन्नादुरई की मौत के बाद से इसके नेता बने थे
  • एम. करुणानिधि पांच बार (1969–71, 1971–76, 1989–91, 1996–2001 और 2006–2011) मुख्यमंत्री रहे। उन्होंने अपने 60 साल के राजनीतिक करियर में अपनी भागीदारी वाले हर चुनाव में अपनी सीट जीतने का रिकॉर्ड बनाया।
  • एम. करुणानिधि के समर्थक उन्हें कलाईनार (“कला का विद्वान”) कहकर बुलाते हैं।
  • करूणानिधि का निधन 7 अगस्त 2018 को कावेरी अस्पताल में हुआ।
  • करुणानिधि ने तमिल फिल्म उद्योग में एक पटकथा लेखक के रूप में अपने करियर का शुभारंभ किया। अपनी बुद्धि और भाषण कौशल के माध्यम से वे बहुत जल्द एक राजनेता बन गए।
  • करुणानिधि तमिल साहित्य में अपने योगदान के लिए मशहूर हैं। उनके योगदान में कविताएं, चिट्ठियां, पटकथाएं, उपन्यास, जीवनी, ऐतिहासिक उपन्यास, मंच नाटक, संवाद, गाने इत्यादि शामिल हैं। उन्होंने तिरुक्कुरल, थोल्काप्पिया पूंगा, पूम्बुकर के लिए कुरालोवियम के साथ-साथ कई कविताएं, निबंध और किताबें लिखी हैं।

इन्हे भी पढ़ें:

General Knowledge:List Of Largest Dams Of India In Hindi

Objective Questions And Answers On Gandhiji

Famous Wars Of The World (Vishwa ke Pramukh Yudh) विश्व के प्रमुख युद्ध कब और किसके बीच हुए

  • साहित्य के अलावा करूणानिधि ने कला एवं स्थापत्य कला के माध्यम से तमिल भाषा में भी योगदान दिया है।
  • करुणानिधि द्वारा लिखित पुस्तकों में शामिल हैं: रोमपुरी पांडियनतेनपांडि सिंगमवेल्लीकिलमईनेंजुकू नीदिइनियावई इरुपदसंग तमिलकुरालोवियमपोन्नर शंकर, और तिरुक्कुरल उरई .
  • उन्होंने 10 अगस्त 1942 को मुरासोली का आरम्भ किया। अपने बचपन में वे मुरासोली नामक एक मासिक अखबार के संस्थापक संपादक और प्रकाशक थे जो बाद में एक साप्ताहिक और अब एक दैनिक अखबार बन गया है। उन्होंने अपनी राजनीतिक विचारधारा से संबंधित मुद्दों
  • वे पहले मांसाहारी थे लेकिन अब शाकाहारी हो गये हैं। उनका दावा है कि उनकी स्फूर्ति और सफलता का रहस्य उनके द्वारा दैनिक रूप से किया जाने वाला योगाभ्यास है। उन्होंने तीन बार शादी की; उनकी पत्नियां हैं पद्मावती, दयालु आम्माल और राजात्तीयम्माल.
  • उनके बेटे हैं एम.के. मुत्तु, एम.के. अलागिरी, एम.के. स्टालिन और एम.के. तामिलरसु. उनकी पुत्रियां हैं सेल्वी और कानिमोझी. कानिमोझी राज्यसभा की सांसद हैं।
  • पद्मावती, जिनका देहावसान काफी जल्दी हो गया था, ने उनके सबसे बड़े पुत्र एम.के. मुत्तु को जन्म दिया था। अज़गिरी, स्टालिन, सेल्वी और तामिलरासु दयालुअम्मल की संताने हैं,
  • जबकि कनिमोझी उनकी तीसरी पत्नी राजात्तीयम्माल की पुत्री हैं।
  • एक बुद्धिवादी होने के बावजूद बृहस्पति ग्रह शान्ति के लिए वे पीला वस्त्र पहनते हैं।

Credit: wikipedia.org

हमारी टीम से कनेक्ट हो कर आप और ज्यादा Study Material प्राप्त कर सकते हैं

फेसबुक ग्रुप – https://www.facebook.com/groups/howtodosimplethings

फेसबुक पेज – https://www.facebook.com/notesandprojects

व्हाट्सप्प ग्रुप –https://chat.whatsapp.com/3vXS5givy0jJWoj4HM3qZc

टेलीग्राम चैनल – https://t.me/notesandprojects 

ट्विटर पर फॉलो करें – https://twitter.com/notes_projects

For any query or suggestions, or if you have any specific requirement of any kind of educational content you can use our comment section given below and tell us. As your feedback is very important and useful for us.

Notes And Projects.com आपको आगामी प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए शुभकामनाएं देता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *