Essay Writing Tips For Competitive Exams In Hindi

Essay Writing Tips For Competitive Exams In Hindi

Bank Competitive Exams Frequently Asked Question Hindi IAS PDF SSC State Level Exams Study Material

||Essay Writing Tips For Competitive Exams In Hindi||

हैलो दोस्तों, एक बार फिर NotesAndProjects.com में आपका स्वागत है।दोस्तों आज NotesAndProjects.com की टीम आप सभी के साथ एक बहुत ही महत्वपूर्ण विषय पर चर्चा करने जा रहा है। दोस्तों आज चर्चा का विषय है कि किसी प्रतिस्पर्धी परीक्षा में आसानी से निबंध कैसे लिखना है।

इस आर्टिकल में हम युक्तियों, ट्रिक्स और तकनीकों पर चर्चा करेंगे जो आपको आसानी से लिखने में मदद करेंगे “essay in hindi for competitive exams”।

इन युक्तियों और तकनीकों को और स्पष्ट रूप से विस्तारित करने के लिए हम आपको कुछ उदाहरण प्रदान करेंगे। अंत में हमने निबंध लेखन कौशल का अभ्यास करने के लिए आपके लिए कुछ विषय भी दिए हैं।

इसलिए बहुत समय बर्बाद किए बिना चलिए हम अपनी ये चर्चा शुरू करते हैं।

आइए पहले देखें कि प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए निबंध लेखन सीखना क्यों महत्वपूर्ण है ?

SBI PO, SBI Associate PO, IB ACIO, UPSC Mains (Civil Services), State Level PCS Mains, SSC CGL (Tier-III) “ssc chsl descriptive paper pdf in hindi”, Insurance AO पेपर इत्यादि जैसी परीक्षाएं हैं जिनके लिए निबंध लिखने की आवश्यकता है।

Essay Writing Tips For Competitive Exams In Hindi

निबंध क्या है ?

निबंध लेखन का एक विशेष रूप से अकादमिक रूप है और मानवता डिग्री कार्यक्रम के लगभग सभी स्तरों पर छात्र की बौद्धिक क्षमताओं को विकसित करने और प्रदर्शित करने का एक मानक तरीका है।

निबंध किन किन क्षेत्रों से आम तौर पर पूछा जाता है ?

निबंधों को आम तौर पर सामाजिक आर्थिक, राजनीतिक, अंतर्राष्ट्रीय संबंधों आदि क्षेत्रों से पूछा जाता है। इसके लिए एक अच्छा निबंध लिखने के लिए इस विषय पर कुछ विचारों के साथ-साथ कुछ लेखन युक्तियों की आवश्यकता होती है।

सबकुछ के बारे में कुछ जानें :

आमतौर पर पूछे जाने वाले विषयों को आपके हिस्से पर कुछ सोच की आवश्यकता होती है। इसके लिए आपको कुछ जानने की आवश्यकता है – कम से कम विषयों के बारे में थोड़ा सा ज्ञान। यदि आपके पास आधार है, तो केवल तभी आप एक इमारत का निर्माण कर सकते हैं!

तो, जानकारी कैसे इकट्ठा करने के लिए ? आप अपने आसपास के हालिया घटनाओं के साथ खुद को अपडेट रखकर ऐसा कर सकते हैं। समाचार पत्र और पत्रिकाएं पढ़ें। समाचार पत्रों में संपादकीय पढ़ने और समझने की कोशिश करें। संपादकीय आपको न केवल जानकारी देते हैं बल्कि प्रतिष्ठित व्यक्तियों के विश्लेषण और विचार भी देते हैं।आप यह भी सीखते हैं कि कैसे वे अपने बिंदु को व्यक्त करने के लिए शब्दों के साथ एक सुंदर जाल बुनाई करते हैं।

Essay Writing Tips For Competitive Exams In Hindi

निबंध कैसे लिखें –

  • कैसे शुरू करें :

जो भी समय आप अपने निबंध लेखन के लिए आवंटित करते हैं, आपको इसे सावधानीपूर्वक और प्रभावी तरीके से उपयोग करने की आवश्यकता होती है। पहले 5 मिनट आपको तुरंत विषयों को पढ़ने और फिर यह तय करना चाहिए कि आपके पास किस विषय के बारे में सबसे अच्छा ज्ञान है और इसलिए अच्छे स्कोर करने और आपके दिमाग में आने वाले सभी बिंदुओं को इकट्ठा करने का सबसे अच्छा मौका है।

अपनी मदद के लिए कागज के टुकड़े पर इसे लिखें। फिर बिंदुओं की व्यवस्था इस तरह से करें कि आप शुरुआती या अंत में आकर्षक और महत्वपूर्ण बिंदुओं को रखें। (परिचय और निष्कर्ष भाग के साथ इसे मिश्रण न करें। लेखन और निष्कर्ष लेखन अत्यंत सावधानी से किया जाना चाहिए)।

निबंध लेखन में, सबसे महत्वपूर्ण प्रारंभिक बिंदु यह है कि निबंध शीर्षक आपको क्या बता रहा है, ध्यान से पढ़ना और सुनना है।

निबंध लेखन के दौरान याद रखने के लिए कुछ महत्वपूर्ण बिंदु हैं “how to write essay in hindi for competitive exams pdf”:

  • निबंध में केंद्रीय मुद्दे के बारे में एक सामान्य बिंदु से शुरू करें
  • थीसिस कथन (जो आप साबित करने की कोशिश कर रहे हैं) निबंध लेखन में शामिल किया जाना चाहिए
  • निबंध में मानचित्रण विवरण या बयान होना चाहिए (आप किस प्रकार और कैसे बहस करेंगे)
  • विषय वाक्य (वाक्य जो आपके विषयों को पेश करते हैं) निबंध में शामिल किए जाने चाहिए।
  • निबंध में उस विषय की अपनी समझ दिखाएं जो सेट (दिया गया) है।
  • दिखाएं कि आप अपने निबंध संरचना में शीर्षक को कैसे संबोधित करने की योजना बना रहे हैं
  • निष्कर्ष निबंध लेखन में होना चाहिए।

एक निबंध में एक शक्तिशाली परिचय अमूल्य (अत्यंत उपयोगी) है। यह आपके पाठकों को संलग्न कर सकता है, और उन्हें विश्वास दिला सकता है कि आपने शीर्षक के बारे में सावधानी से सोचा है, और इसके बारे में आप इसे कैसे संबोधित करेंगे।

आपके परिचय के लिए केवल एक पैराग्राफ का उपयोग करना संभव हो सकता है, लेकिन इसमें दो या अधिक अनुच्छेद आसानी से हो सकते हैं। आपको अपने मूल अनुशासन और सटीक कार्य सेट के साथ फिट करने के लिए इस मूल संरचना को अनुकूलित और विस्तारित करने की आवश्यकता होगी। थीसिस के बाद, आपको मिनी-रूपरेखा प्रदान करनी चाहिए जो उन उदाहरणों का पूर्वावलोकन करती है जिनका उपयोग आप निबंध के बाकी हिस्सों में अपने थीसिस का समर्थन करने के लिए करेंगे। न केवल पाठक को यह बताता है कि अनुच्छेदों में क्या उम्मीद करनी है, बल्कि यह उन्हें स्पष्ट रूप से समझता है कि निबंध क्या है।

अनिवार्य रूप से, निबंध प्रक्रिया के भीतर आप यही कर रहे हैं, विचारों को तोड़ रहे हैं, और फिर उन्हें फिर से बना रहे हैं। निबंध लिखते हुए, आपको निबंध शीर्षक को अपने घटक भागों में तोड़ने की जरूरत है, और इन घटकों के हिस्सों के साथ काम करने के संभावित तरीकों पर विचार करें, क्योंकि आप अपना पठन चुनते हैं और प्रासंगिक नोट्स बनाते हैं, आपके द्वारा एकत्र की गई सामग्री का उपयोग करके निबंध तैयार करते हैं इसे आदेश देना, प्रस्तुत करना और चर्चा करना, और इसे एक सुसंगत तर्क में बनाना।

एक उदाहरण लेते हैं :

उदाहरण के लिए आपको विषय दिए गए हैं :

ए) बैंकों की सामाजिक जिम्मेदारी

बी) कश्मीर संकट

अब विषय को पढ़ने में कुछ सेकंड से अधिक समय नहीं लगेगा, लेकिन विषय को समझने और निर्णय लेने के लिए कि आपके पास अधिक स्कोरिंग अंक हैं, आपके विचारों का समर्थन करने के लिए सबूत हैं और एक मजबूत राय बनाते हैं, जहां आपका समय प्रबंधन कौशल आते हैं।

पहले विषय में आपको बैंकों के CSR (कॉर्पोरेट सोशल रिस्पॉन्सिबिलिटी) के बारे में जानने की जरूरत है, वे समाज की मदद कैसे कर सकते हैं और उनके आर्थिक अभिव्यक्ति और उनके दृष्टिकोण क्या हैं। यदि आपके पास उस क्षेत्र के कुछ बैंकों के हालिया कार्यों और आंकड़ों के बारे में जानकारी है तो यह हमेशा बेहतर होता है। पहले विषय के लिए आपको बैंकिंग और अर्थशास्त्र के बारे में कुछ जानकारी चाहिए।

दूसरे विषय पर आते हैं, कश्मीर संकट आपको कश्मीर के भू-राजनीतिक परिदृश्य को जानने के लिए जरूरी है और यह पड़ोसी देशों के बीच विवाद की हड्डी क्यों रही है, कश्मीर के इतिहास के बारे में थोड़ा सा और यह भारत से कैसे जुड़ा हुआ है , भारत और पड़ोसी देश और हालिया आक्रामकता और यहां तक कि कश्मीर में रहने वाले आम लोगों के विचारों के बीच लड़े गए युद्ध।

यदि आपके पास कुछ प्रमुख व्यक्तित्व की राय और विचार हैं तो आप अपने लेखन को और अधिक रोचक बना सकते हैं। और दुनिया के अन्य हिस्सों में जहाँ ऐसी ही सामान समस्या थी जिन्हे हल कर लिया गया है। आप कश्मीर परिदृश्य से प्रासंगिक दिलचस्प उद्धरणों का उपयोग करके कुछ प्रकाश भी डाल सकते हैं।

निबंध विषयों को पढ़ने के बारे में आपको 5-6 मिनट के भीतर अपने परिचय पर होना चाहिए, जिस पर आप अच्छी तरह से लिख सकते हैं और तेजी से आप अपने निबंध को लिखना शुरू कर दें।

निबंध का ढांचा :

लिखते समय, आपको लिखना शुरू करने से पहले 3 महत्वपूर्ण बिंदुओं को ध्यान में रखना होगा।

वो हैं :

  • शब्द सीमा के भीतर लंबाई रखने के लिए
  • आप अपने निबंध के साथ तथ्यों को कैसे सहसंबंधित करेंगे और तर्कसंगत रूप से अपने निबंध की संरचना करेंगे
  • और निश्चित रूप से, भाषा पर एक अच्छी पकड़ और एक अच्छी शब्दावली आपके निबंध में होनी चाहिए

सहायक पैराग्राफ (निबंध का शरीर) :

अनुच्छेदों का समर्थन करने वाले निबंध लेखन में आपके निबंध का मुख्य निकाय बनाते हैं। उन बिंदुओं की सूची बनाएं जो आपके निबंध के मुख्य विचार को विकसित करते हैं। प्रत्येक सहायक बिंदु को अपने अनुच्छेद में रखें। तथ्यों, विवरणों और उदाहरणों के साथ प्रत्येक सहायक बिंदु का विकास करें।

अपने सहायक पैराग्राफ को जोड़ने के लिए, आपको विशेष संक्रमण (transition) शब्दों का उपयोग करना चाहिए। संक्रमण शब्द आपके अनुच्छेदों को एक साथ जोड़ते हैं और आपके निबंध को पढ़ने में आसान बनाते हैं। अपने अनुच्छेदों की शुरुआत और अंत में उनका उपयोग करें।

“संक्रमण शब्द और वाक्यांश हैं जो विचारों, वाक्यों और अनुच्छेदों के बीच एक कनेक्शन प्रदान करते हैं”। संक्रमण लेखन प्रवाह का एक टुकड़ा बेहतर बनाने में मदद करते हैं।

निबंध का शरीर इनमें से प्रत्येक मुख्य बिंदु को एक-एक करके ले जाएगा और स्पष्ट रूप से परिभाषित पैराग्राफ का उपयोग करके उन्हें उदाहरणों के साथ विस्तृत करेगा। यह वह जगह है जहां आपको अपने निबंध की संरचना के बारे में सोचना होगा और सुनिश्चित करना होगा कि आप अपने निष्कर्ष के माध्यम से एक स्पष्ट मार्ग का पालन करें।

यह खंड है जहां अधिकांश लेखक गलत होते हैं, लेकिन यदि आप सावधानीपूर्वक योजना बनाते हैं तो आपको लिखने से पहले अपने निबंध के लिए एक दिशा होनी चाहिए।

जटिल अन्वेषण –

अनावश्यक विवरण से बचें – एक निबंध में केवल सामान्य पृष्ठभूमि विवरण और इतिहास शामिल होते हैं जब वे आपके तर्क में जोड़ते हैं, उदाहरण के लिए एक महत्वपूर्ण कारण और प्रभाव दिखाने के लिए। वर्णन के बीच अंतर (क्या कहा गया) और विश्लेषण (निर्णय करना की यह क्यों हुआ)।

अपने सबूतों की व्याख्या करें –

निबंध लिखते समय बताएं कि आपके सबूत आपके बिंदु का समर्थन कैसे करते हैं। व्याख्या महत्वपूर्ण विश्लेषण का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है, और आपको केवल “खुद के लिए बोलने” के साक्ष्य पर भरोसा नहीं करना चाहिए।

विशिष्ट रहें –

निबंध में व्यापक सामान्यीकरण या अंक बनाने से बचें जो विशिष्ट साक्ष्य के साथ समर्थन करना मुश्किल हैं। अधिक सटीक उदाहरण या केस स्टडीज के लिए अपने तर्क को और अधिक मापना और बेहतर होना बेहतर है।

अपने लाभ के लिए काउंटर –

तर्क का उपयोग करें – एक निबंध लिखने में यदि आपको अपने स्वयं के तर्क के खिलाफ जाने वाले दृष्टिकोण मिलते हैं, तो उन्हें अनदेखा न करें। यह एक विरोधी दृष्टिकोण को शामिल करने के लिए एक तर्क को मजबूत करता है और समझाता है कि यह आपकी तर्कसंगत रेखा के रूप में क्यों नहीं है।

निष्कर्ष –

एक शक्तिशाली निष्कर्ष एक मूल्यवान उपकरण है। इसलिए निबंध लेखन का उद्देश्य अपने पाठक को यह महसूस करना है कि आपने अच्छा काम किया है। उन सभी को करने के बाद, अंतिम तत्व – और आपके निबंध में अंतिम वाक्य – एक “वैश्विक विवरण” या “कार्रवाई के लिए बुलाना” होना चाहिए जो पाठक संकेत देता है कि चर्चा समाप्त हो गई है।

महत्वपूर्ण बिंदु :

अपने निबंध को और अधिक आकर्षक बनाने के लिए आपके निबंध में कुछ अच्छे मुहावरे का उपयोग किया जा सकता है।

Essay Writing Tips For Competitive Exams In Hindi

उदाहरण के साथ कुछ निबंध विषय “hindi essay for competitive exam pdf” :

उदाहरण 1 – सांस्कृतिक-प्रदूषण कारण एवं निवारण

“संस्कृति मानव जीवन की वह अवस्था है जहाँ उसके प्राकृतिक राग-द्धेष का परिमार्जन होता है” अर्थात संस्कृति उस महासागर के समान है जो समस्त अच्छाइयों को समेटते हुए और विभिन्न प्रकार के अभिलेखों को आत्मसात् करते हुए अपने मूल स्वरुप को स्पष्ट, उज्जवल एवं सुरक्षित बनाए हुए है। भारतीय संस्कृति एक अनुपम उदाहरण है जो विभिन्न संस्कृतियों की जन्मदायिनी है। डॉ. मुखर्जी ने अपनी पुस्तक ‘दी फण्डामेंटल यूनिटी आफॅ इंडिया’ में ‘वृहत्तर भारत’ शब्द का प्रयोग करके इसकी प्रमाणिकता को सिद्ध किया है। प्रो. एस. एफ. जे. बुड्स के अनुसार “सामाजिक सांस्कृतिक मूल्य वे सामन्य सिद्धांत हैं जो दिन प्रतिदिन के व्यवहार को नियंत्रित करते हैं। वे मानव व्यवहार को दिशा, आदर्श व उद्देश्य प्रदान करते हैं।” यह सभी बातें तभी तक सही प्रकट होती थीं जब तक हम शारीरिक रुप से परतंत्र थे परंतु मानसिक एवं सामाजिक रुप से सभ्य थे। अंग्रजों के प्रहार के बाद से ही मानव जीवन में एक आश्चर्यजनक परिवर्तन प्रकट हुआ। सांस्कृतिक मूल्यों एवं चेतना का ह्यास प्रारंभ हुआ। लोकतंत्र व प्रजातंत्र की स्थापना के बाद ही देश की जनसंख्या में बढ़ोतरी नजर आई और परिणाम स्वरुप बेरोजगारी और गरीबी की समस्याएँ जटिल होती गई। मनुष्य अपने जीवन यापन के लिए अनेक अनैतिक एवं असामाजिक कार्यों की ओर चल पड़ा। आदर्श की बातें मात्र कहने और सुनने की पौराणिक कथाएँ बन कर रह गई। देश पाश्चात्यता एवं आधुनिकरण के ऐसे कुचक्र में फंस गया कि उसका परिणाम सांस्कृतिक प्रदूषण के रूप्प में दृष्टिगत हुआ। उसकी जड़े इतनी पनप गई कि मनुष्य उस बुराई से दूर न जा सका। वह इस भीषण दुर्गति का अंश बनकर रह गया। यह सांस्कृतिक प्रदूषण की समस्या इतनी जटिल हो चुकी है कि मात्र कुछ कारणों से इसके प्रकोप को दर्शाना अत्यंत मुश्किल है।

इस समस्या के कुछ कारण हैं –

  1. अंग्रेजो का शासनकाल- इन अंग्रेजी सत्ताधीशों के प्रभाव में देश का मानचित्र ही बदल गया। खान-पान से लेकर रहन-सहन सब पर इनका प्रभाव छाता गया। वे हमारी सभ्यता के नियमों का परिहास करने लगे और हमें रूढ़ीवादी कह कर संबोधित करने लगे। इस बात का भारतीयों के मस्तिष्क पर बहुत गहरा प्रभाव पड़ा।
  2. अंग्रजों की कूटनीति- अंग्रजों ने ’फूट डाला और राज करो’ की नीति अपना कर देश में जातिवाद और भाई-भतीजावाद की भावनाओं को विकसित कर दिया। फलत: धार्मिक रूप से भारतीयों की सांस्कृतिक चेतना पर आघात किया।
  3. पारिवारिक विघटन की समस्या- संयुक्त परिवारों के विखण्डन के फलस्वरूप भावी में एकता एवं सौहार्द की भावना का लोप हुआ है और आपसी रिश्तों में टकराव पैदा कर दिया है।
  4. विज्ञान का प्रभाव- विज्ञान एवं तकनीकी क्षेत्रों में विकास के कारण हमारे देश में सभ्यता की सेज पर आधुनीकरण की नींव पड़ी है। यह हमारे लिए एक चिंता के विषय के रूप में सामने आई है।
  5. देश में ओद्यौगिकरण- ओद्यौगिकरण की नींव पर मानव भोग विलासिता एवं सुख-सुविधाओं की ओर आकर्षित होता जा रहा है जो मनुष्य को समाज से दूर स्वंय तक सीमित कर रही है।
  6. अछूतों से समान व्यवहार न करना- अंग्रेजी शासन में अछूतों से समान व्यवहार न मिल पाने के कारण वे अनेक अधिकारों से वंछित रखे गए है और यह उच्च वर्ग एवं निम्न वर्ग में समाज का विघटन करता है।
  7. गरीबी रेखा से नीचे रह रहे लोग- गरीबी रेखा से नीचे रह रहे लोगों के पास वांछित सुविधाओं का अभाव है। फलत: वे अपने जीवनयापन के लिए अनैतिक एवं असामाजिक तकनीकों का प्रयोग करके समाजिक एवं सांस्कृतिक चेतना को आघात पहुँचाते हैं।
  8. फिल्मी संस्कृति- फिल्मी संस्कृति के कुप्रभावों का आज की पीढ़ी अंधाधुन अनुसरण करती है और इसे एक गर्व का विषय समझती है परन्तु वास्तव में यह उसे आपसी परिवेश से दूर ले जाती है
  9. नशीले पदार्थों का सेवन- पाश्चात्य संस्कृति के प्रभाव से आज की युवा पीढ़ी नशीले पदार्थों का सेवन की ओ अग्रसर होती है और यह उसे भीतरी रूप से खोखला कर देता है और उसके मानसिक स्वर को बाधित कर देता है।
  10. प्रदर्शन व रैलियाँ- प्रदर्शन व रैलियों की होड़ में आज की युवा पीढ़ी इन आंदालनों का एक आकर्षक अंग बन जाती है। और सांस्कृतिक ह्यास की ओर अग्रसर करती है।

इन सभी कारणों से आज की युवा पीढ़ी एवं प्राणी पक्व बुद्धिजीवी भटकाव के शिकार बन रहे हैं। इस प्रकार देश की आजादी के पचास वर्षों बाद यह स्थिति समझ आती है जो मनुष्य को सोचने पर विवश कर देती है कि क्या स्वाधीनता हमारे हित की कि गई लड़ई है? क्या इसके बाद के परिणामों से लड़ने में हम सक्षम होगें ? सिसरो ने कहा है-“यदि पूर्व की घटनाएँ वर्तमान के अतीत के साथ संबंधित न करी जाए तो फिर मानव जीवन है ही क्या ? परम्परा के बिना मानव जीवन विश्रृंखलित हो जाएगा।” समस्याओं को सुलझाने एवं परिस्थितियों का सामना करने के पुराने ढंगों के आधार पर नए ढंगों की खोज की जानी चाहिए। परम्पराएँ हमें धैर्य, साहस और आत्मविश्वास प्रदान कराती हैं। हमारे देश में इस कुरीति से बचने के लिए कई प्रयत्न किए जा चुके हैं परन्तु अनेकों अभी शेष हैं।

निवारण:- सरकार ने अछूतों को समान अधिकार दिलाने के तहत अनेक कानूनों का गठन किया है और वे इस बात की पुष्टि करते हैं कि उन्हें समान अधिकार की प्राप्ति हो। संविधान एक्ट-1989 के 62 वें अमेंडमेंट में अनुसूचित जाति एवं जनजाति के विकास के लिए अलग दस सालों तक सीटों को बढ़ाए रखने की मांग कि है। हमारे संविधान के तहत भारत के प्रत्येक नागरिक को समान अधिकार एवं समान छूट प्रदान कि गई है। परिवार नियोजन के कार्यों को बढ़ावा दिया गया है परिणामस्वरूप जनसंख्या को एक सीमित स्तर तक ही बढ़ने दिया जाएगा। यदि जनसंख्या नियंत्रित होती है तो देश में रोजगार की समस्याएँ भी सुलझाई जा सकेंगी। हमें जन सामान्य को शिक्षत करना होगा कि वे भावी पीढ़ी पर ध्यान दें ताकि इस समस्या को ओर कई दशकों तक न सहना पड़े। प्रसार माध्यमों को इस बात की पुष्टि कर लेनी चाहिए कि आत जनता तक पहुँचने वाला संदेश जनता को गलत मार्ग प्रदर्शित न करें। आपसी सौहार्द, सामंजस्य एवं मधुरता को बढ़ावा मिले। फलत: पारिवारिक एक- रूपता का उद्गार हो और समाज के राष्ट्र के साहस और आत्मविश्वास में वृद्धि हों। अंग्रेजों की कूटनीति का समाप्तिकरण हो और सौहार्द पूर्ण धार्मिक संबंधो का निर्वाह हो। युवा पीढ़ी इस समाज की भावी कर्णधार है अत: उन्हें इस बात का पूर्ण अहसास दिलाना आवश्यक है कि संस्कृति देश की धरोहर होती है। संस्कृति से व्यक्ति और व्यक्ति से समाज, समाज से राष्ट्र की पहचान होती है। हमें विश्व इतिहास में अपनी संस्कृति की अमूल्य अनुपम एवं अमिट छाप छोड़नी है। इसके लिए हमें सतत् प्रयासों से अपने राष्ट्र की छवि को एक नया रूप देना होगा। हमें अंत तक नहीं पहुँचना है परन्तु उस अंत पर बने रहना है। कवि श्री जयशंकर प्रसाद ने सत्य ही कहा है-

“इस पथ का उद्देश्य नहीं है

श्रान्त भवन में टिक जाना,

किन्तु पहुँचना उस सीमा तक,

जिसके आगे राह नहीं है।”

*(examrace.com द्वारा निबंध सौजन्य)

इस निबंध की PDF फाइल डाउनलोड करने के लिए इस लिंक पे क्लिक करें

उदाहरण 2 – राजस्थान विकास के पाँच वर्ष

“इस पथ का उद्देश्य नहीं है

श्रान्त भवन में टिक जाना,

किन्तु पहुँचना उस सीमा तक,

जिसके आगे राह नहीं हो।”

कवि जयशंकर प्रसाद इन पंक्तियों में विकास की महत्व पर प्रकाश डालते हुए इस तथ्य को स्पष्ट रूप से प्रमाणित करते हैं कि विकास एक सतत् क्रम है, एक निरंतर प्रकिया जिसका कोई विराम नहीं है।

इस विकास क्र का उद्गम सदियों पहले हुआ था परन्तु इसकी गति में प्रभावी विकास के घोतक साधनों का उचित प्रयोग नहीं था। आजादी पाने के साथ-साथ देश व सभी प्रांतों में एक नव-चेतना का आगाज हुआ और शनै: – शनै: सभी प्रांत प्रगति पथ पर अग्रसर होने लगे। फलत: हमारे राष्ट्र का विकास बढ़ता गया और आशा की किरण आने लगी कि हम शीघ्र ही विकसित देशों में अपना स्थान बना लेंगे। इस विश्वास को और सुदृढ़ करने के लिए पिछले पाँच वर्षों में प्रगति अत्यंत तेजी से बढ़ी है। यदि हमारा राज्य इस गति से विकास पथ की ओर उन्मुख रहा तो विकसित राष्ट्र के रूप में भारत शीघ्र ही अंकित हो जाएगा। संकल्प है तो मात्र यहीं कि प्रगति का यह क्रम बिना किसी अवरोध के निरंतर चलता रहे।

जवाहर लाल नेहरू जी के शब्दों में हमारा सही संकल्प यही होगा-

“At the stroke of the midnight hour when the whole world sleeps, India shall arise to life & freedom we have to built the noble mason where all her children may dwell.”

राष्ट्र के इस संकल्प के लिए आवश्यक है कि प्रत्येक प्रांत इस कार्य में पूर्ण सहयोग प्रदान करे और यह सहयोग हमारे राज्य की ओर से सदैव रहा है व रहेगा। गत पाँच वर्षों में हमारे राज्य ने जो कीर्तिमान अर्जित किए वे कुछ इस प्रकार से हैं-

  1. आधारभूत ढाँचे का विकास:- सड़क- वर्ष 200-01 में 1117 किमी. सड़कों का नवीनीकरण केन्द्रीय सड़क निधि से राज्य में 1075 कि.मी. सड़कों का सुदृढ़ीकरण एक पुल व 22 छोटी पुलियाओं का निर्माण राज्य कृषि विपणन बोर्ड द्वारा संपर्क सड़कों के निर्माण पर 268.13 करोड़ रुपये व्यय कर 3759 किलोमीटर सड़कों का निर्माण किया गया। बी.ओ.टी. पर आधारित योजना के तहत 78.24 करोड़ रुपये की 8 परियोजनाएँ पूर्ण कर यातायात के लिए खोली गई। ग्रामीण क्षेत्रों के लिए प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के तहत एक हजार से अधिक आबादी के सभी गाँवों को वर्ष 2003 व 500 से 1000 की आबादी वाले गाँवों को वर्ष 2007 तक पक्की सड़कों से जोड़ा जाएगा।
  2. ऊर्जा क्षेत्र सुधार:- विद्युत उत्पादन वृदव् के लिए सतत् प्रयास किए गए हैं। पिछले पाँच वर्षों की तुलना में विद्युत उत्पादन में पाँच वर्षों में दुगुना विकास कार्य हुआ है जो कि 1302 मेगावाट से 2572 मेगावट हुआ है। सूरतगढ़ तापीय विद्युत परियोजना कि प्रति वर्ष 250 मेगावाट की एक-एक ईकाई से उत्पादन प्राप्त करने का कार्य निश्चित किया गया। दो सौ मेगावाट की प्रथम ईकाई फरवरी 1999 में प्रारंभ हुई। दव्तीय ईकाई छ: माह पूर्व ही समाप्त हो गई व 80 करोड़ रुपये की बचत, तीसरी ईकाई का कार्य पाँच माह पूर्व ही पूर्ण हुआ व 80 करोड़ रुपये की बचत, चौथी ईकाइ छ: माह पूर्व ही पूर्ण हुई व पुन: 80 करोड़ रु. की बचत, पाँचवी ईकाई 29 माह में पूर्ण हुई व 100 करोड़ रु. की बचत दर्ज की गई। इसके बाद इसे राज्य का प्रथम सुपर थर्मल पावर स्टेशन बनाया गया। वर्ष 2002-03 में भारत सरकार विद्युत मंत्रालय से तीसरी बार स्वर्ण पदक प्राप्त हुआ। कोटा थर्मल को देश के इतिहास में सबसे कम समय में पूर्ण होने वाली परियोजना के रुप में देखा गया। उसकी 195 मेगावाट की छठी ईकाई का निर्माण 24 माह में कर कीर्तिमान स्थापित किया गया। गिरल (बाड़मेर) लिग्नाईट आधारित विद्युत परियोजना का कार्य प्रारंभ किया गया। यह राज्य का प्रथम लिग्नाईट पावर प्रोजेक्ट है व प्रथम वर्ष में इससे उत्पादन पर 2.45 रुपये प्रति यूनिट अनुमानित हैं। रावगढ़ गैस थर्मल पावर स्टेशन दव्तीय चरण (2×37.5 मेगावाट) को 24 माह में पूर्ण किया । इसकी अनुमानित लागत 300 करोड़ रुपये की जगह 220 करोड़ रुपये आई अत: 80 करोड़ रुपये की बचत दर्ज हुई। धौलपुर गैस थर्मल परियोजना का कार्य प्रारंभ किया गया है, इसकी अनुमानित लागत 1155 करोड़ रुपये है व 3.30 मेगावाट का विद्युत उत्पादन करने में सक्षम है। राज्य में 72.73 मेगावाट की पवन ऊर्जा स्थापित परियोजनाएँ है जिसमें 2.25 मेगावट की पवन विद्युत आधारित परियोजना देवगढ़ (चित्तौड) में स्थापित की गई। 7.8 मेगावाट की प्रथम बायोमास परियोजना प्रारंभ की गई। प्रधानमंत्री ग्रामीण योजना के तहत 22 गाँव केंन्द्रीकृत सौर ऊर्जा पद्धति से विद्युतिकृत किए गए, 2003-04 में 38 अन्य गाँवों के विद्युतिकरण का लक्ष्य निर्धारित किया गया। 95 प्रतिशत गाँव विद्युतिकृत किए गए। 8 लाख घरेलू, 1 लाख वाणिज्यिव, 1.26 लाख अन्य कनेक्शन, 756 हरिजन बस्तियों का विद्युतिकरण किया गया। गरीबी रेखा के नीचे 64 हजार परिवारों को कुटीर ज्योति कनेक्शन प्रदान किए गए। सभी शहरों व औद्योगिक क्षेत्रों में 24 घंटे व ग्रामीण में 15 घंटे बिजली प्रदान की गई। 2002-03 में प्लाट लोड फैक्टर 88.01 प्रतिशत आया जो कि सबसे अधिकतम है, तेल खपत-0.431 मिलीलीटर प्रति यूनिट है जो कि सबसे न्यूनतम है फ्लाई एश का उपयोग 80 प्रतिशत तक किया गया। वर्ष 2002-03 में राज्य में विद्युत उत्पादन निगम द्वारा संचालित तापीय विद्युत गृहों से 88.49 प्रतिशत पी. एल. एफ. अर्जित कर देश में दूसरा स्थान पगाप्त किया है। प्रसारण तंत्र सुदृढ़ीकरण हेतु पचास वर्षों की अवधि में जी. एस. एस. क्षमता में 5 वर्षों 50 प्रतिशत वृदव् हुई है। 400 केवी की दो, 220 केवी के ग्यारह, 1.32 केवी के इकसठ व 33 केवी के पाँच सौ इकसठ ग्रिड सबस्टेशन स्थापित किए गए हैं।
  3. जल संसाधन विकास:- सरकार की नवीन निर्देशिका ‘बरसाजन सहभागिता’ के अनुसार 84 योग्य पंचायत समितियों में 320 नए पॉयलट जलग्रहण क्षेत्रों में कार्य प्रारंभ, 2002-03 में शेष पंचायत समितियों में 800 नवीन पॉयलट जलग्रहण क्षेत्रों के चयन की कार्यवाही की गई। इंदिरा गांधी नहर परियोजना के दव्तीय चरण की लिफ्ट नहरों को पम्पिंग स्टेशनों में तीन फीट नहरों को पांच पम्पिंग स्टेशनों से जल प्रवाह का कार्य शुरू किया गया। बागड़सर लिफ्ट नहर का कार्य पूर्ण कर लिया गया है। इससे 10.350 हैक्येटर क्षेत्र में सिंचाई सुविधा तथा 19 गाँवों में 5,730 आबादी को पेयजल सुविधा उपलब्ध हुई। कोलायत लिफ्ट नहर पर 2 पम्पिंग स्टेशनों का कार्य पूर्ण हुआ। इससे 8,747 हैक्येटर में सिंचाई एवं 7900 आबादी को पेयजल सुविधा उपलब्ध। राजस्थान जलक्षेत्र पुन: संरचना परियोजना के अन्तर्गत 612 जल प्रबन्धन समितियों का गठन हुआ। 91 नहर प्रणाली एवं- 16 बाँधों को जीर्णोद्धार व 6.14 लाख हैक्येटर कृषि सिंचाई को लाभ। पोषित सिदव्मुख नहर परियोजना जुलाई 2002 में राष्ट्र को समर्पित। परम्परागत जल स्त्रोतों के 3388 सुधार कार्य पूर्ण किए गए जिन पर 45.70 करोड़ रुपये व्यय हुआ। 19 फरवरी, 1999 को राज्य जल नीति घोषित एवं विभागीय वेबसाइट प्रारंभ की गई। वाटर हार्वेस्टिंग स्ट्रक्चर के 4863 कार्यों में से 16327 कार्य पूर्ण हुए जिनकी लागत 380 करोड़ रुपये आई। जारकम, सिदव्मुख, सोम-कमला-अंबा, जयसंमद व गंभीरी की आधुनिकरण परियोजना पूर्ण कर 19960 हैक्येटर क्षेत्र में अतिरिक्त सिंचाई क्षमता का सर्जन किया गया। कोटा बैसज (चम्बल नदी) के जल के उपयोग हेतु म.प्र. में 10 प्रतिशत जल ग्रहण क्षेत्र की आवक के आधार पर उपयोग हेतु ऐतिहासिक समझौता किया गया।
  4. शिक्षा व साक्षरता:- 28 जिले सतत् शिक्षा कार्यक्रम से जुड़े है फलत: प्रदेश पुरुष साक्षरता दर 1991 की 51.44 से बढ़कर 2001 में 76.84 प्रतिशत हुई, महिला साक्षरता दर 1941 की 20.44 प्रतिशत से बढ़कर 2001 में 44.4 प्रतिशत हुई जो कि 120 प्रतिशत की वृदव् है। अत: प्रदेश की कुल साक्षरता 61.03 हुई है। 15-35 आयु वर्ग के 66 लाख व्यक्ति साक्षर हुए है। योजनाओं के तहत वर्ष 2003 तक। सभी बच्चों का विद्यालयों में नामंकन वर्ष 2007 तक सभी को 5वीं कक्षा तक तथा वर्ष 2010 तक सभी को आठवीं कक्षा तक शिक्षा दिलाने का प्रयास किया गया है। वर्ष 1998-99 से राजीव गांधी जंयती पाठशाला योजना प्रारंभ हुई जिसमें 21,453 पाठशालाएँ खुली जिनमें 8 लाख बच्चों का नामंकन हुआ, 10122 भवनों का निर्माण हुआ। पैराटिचर्स की आय 1200 से बढ़कार 1600 रुपये की गई जिन्होंने 2 साल की सेवा अवधि पूर्ण की है। जून, 2002 तक 79.52 लाख व्यक्तियों को साक्षरता कार्यक्रम के अन्तर्गत लाभान्वित किया गया। उर्दू भाषा की उन्नति हेतु 600 अध्यापकों के पद की स्वीकृति। कक्षा 11वीं व 12वीं के छात्रों के लिए कम्पूटर विज्ञान विषय अनिवार्य किया गया। 11 नए इंजीनियंरिग कॉलेज प्रारंभ, एक नया संस्कृत विश्वविद्यालय व कृषि विश्वद्यािलय की उदयपुर में स्थापना की गई। 4 संसाधनों में बायोटेकनोलॉजी पाठयक्रम 2003 से प्रारंभ किया गया जिसमें 150 छात्रों की प्रवेश क्षमता है। 3 निजी फामेर्सी संसधान स्थापित व प्रवेश क्षमता 960 छात्र प्रतिवर्ष है। 5 औद्योगिक प्रशिक्षण संसधान प्रारंभ, 9 निजी प्रबन्धन संसधान स्थापित, 25 स्थानों पर सूचना प्रोद्यौगिक का पाठयक्रम प्रारंभ किया गया। शिक्षा आपके दव्ार के तहत मोबाइल स्कूल, शिक्षा गारन्टी योजना के तहत 32 जिलों में समयबदव् नियोजित शैक्षिक गतिविधि सर्व शिक्षा अभियान से प्राथमिक व उच्च प्राथमिक को संवैधानिक अधिकार के तहत प्रत्येक बच्चे को आठवीं कक्षा तक नि:शुल्क शिक्षा का प्रावधान।
  5. स्वास्थ्य:- मेडिकल रिलीफ कार्ड योजनान्तर्गत अगस्त 2001 तक 23.47 लाख परिवार चिन्हित व 23 लाख से अधिक मेडीकेयर रिलीफ कार्ड वितरित व 111 लाख रुपये की नि:शुल्क चिकित्सा। 46865 कुष्ठ रोगियों का उपचार, 40814 क्षय रोगियों की पहचान व 19,000 क्षय रोगियों का उपचार, मलेरिया के लिए 20284 नि:शुल्क औषधि वितरण केन्द्र 1206 ज्वर उपचार केन्द्र, 1425 मलेरिया क्लिनिक, 197 भ्रमणशील दल कार्यरत। पोलियों के लिए 7 करोड़ रुपये का प्रावधान कर 25,000 ऑपरेशन। 43 सरकारी व 10 निजी रक्त बैंक में एच.आई.वी. मुफ्त रक्त उपलब्ध। 47851 विद्यालयों में 45 लाख विद्यार्थियों का स्वास्थ्य परीक्षण सम्पन्न। राज्य में जनसंख्या स्थायीत्व के हेतु राजीव गांधी जनसंख्या नियंत्रण मिशन। एड्स नियंत्रण कार्यक्रम हेतु विश्व बैंक की सहायता से 86 करोड़ रुपये की योजना स्वीकृत। ग्रामीण क्षेत्रों में 276 एवं शहरी क्षेत्रों में 9 उपस्वास्थ्य केन्द्र खोले गए। सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर 286 शैयाएँ बढ़ाई गई, 13 एक्सरे मशीनें, 100 कैलोरीमीटर, 1 सेटेलाइट अस्पताल व तीन 300 एम.ए. की एक्सरे मशीने सुलभ कराई गई।
  6. पंचायतीराज:- को अधिक वित्तीय व प्रशासनिक शक्तियां प्रदान कर सुदृढ़ बनाया गया। संविधान की ग्याहरवीं अनूसूची के 29 विषयों में से 16 विषयों के कार्य पंचायतों को हस्तान्तरित किए गए। प्रारम्भिक शिक्षा का संपूर्ण काम पंचायतीराज को दिया गया। पंचायती संस्थाओं के चुनाव में अजा जजा के 15 प्रतिशत आरक्षण को बढ़ाकर 21 प्रतिशत किया गया। ग्रामीण विकास के लिए वार्ड ग्राम सभाओं का गठन किया गया। अधिकांश में ग्राम सेवक पदेन सचिव को सेवाएं उपलब्ध कराई गई। प्रथम बार चरागाह प्रबन्धन समिति का गठन हुआ जिसमें महिलाएं भी सदस्य बनी।
  7. सामाजिक सुरक्षा:- कमजोर वर्गों के हितों की रक्षा व विकास के लिए। कमजोर वर्गों को ऋण व अनुदान उपलब्ध करना स्वरोजगार हेतु प्रशिक्षण देना, अन्याय रोकना, पोषाहार स्तर में सुधार करना, वृद्धों व विधवाओं को पेंशन प्रदान करना, शिक्षा व तकनीकी संबंधी जानकारी एवं छात्रावास विकास कार्य।
  8. अकाल प्रबंधन:- राहत कार्यों पर बी.पी.एल. परिवारों के अलावा अन्य गरीब परिवारों के लोगों को ग्राम पंचायत के अनुमोदन पर रोजगार देने का निर्णय। 18 जिलों के 9964 गाँवों को अभावग्रस्त घोषित किया गया, इसके लिए कुल 24672 राहत कार्य चलाकर 6.13 लाख लोगों को रोजगार उपलब्ध कराया गया। संवत् 2057,56,55 में क्रमश: 2079,2777 एवं 253 चारा डिपो खोलकर अनुदानित दरों पर चारा वितरित किया गया। संवत् 2056 व 2057 में क्रमश: 606 व 727 पशु शिविर खोलकर क्रमश: 212864 एवं 275242 पशुओं को लाभान्वित किया गया। पेयजल, परिवहन सुविधा 1739 टेंकरों के माध्यम से 2187 ग्रामों में उपलब्ध। गत 3 वर्षों में रेल दव्ारा पेयजल के नि:शुल्क परिवहन की सुविधा उपलब्ध करवाई गई। 1 मई 2002 से राहत कार्य प्रारंभ किए गए इसमें 1.61 लाख श्रमिको को रोजगार उपलब्ध कराया गया। केन्द्र सरकार से अब तक 2 लाख मेट्रिक टन गेहूँ दिया गया। सभी ग्राम पंचायतों में 5 क्विटंल अनाज रखावाकर अभाव की स्थिति में भी भूख का पुख्ता इंतजाम किया व मरने नहीं दिया।
  9. पर्यटन:- पर्यटन को राज्य में जन उद्योग के रुप में स्थापित एवं विकसित किए जाने हेतु 27 सितम्बर, 2001 को पर्यटन नीति घाषित। पर्यटन हेतु 10वीं पंचवर्षीय याजना में कुल 147.5 करोड़ रुपये व्यय करने की स्वीकृति दी गई। वर्ष 98-99 से 2002 तक पर्यटन स्थलों व प्राचीन इमारतों के विकास एवं संरक्षण की महत्वपूर्ण योजना के तहत 38 विस्तार एवं विकास करवाए गए जिन पर 380.93 लाख रुपया खर्च किया गया। वर्ष 2002 में भरतपुर के केवलादेव राष्ट्रीय उद्यान को श्रेष्ठ प्रबन्धित पर्यटन स्थल का राष्ट्रीय पुरस्कार। इसी वर्ष पैलेस ऑन व्हील्स विश्व की श्रेष्ठ पर्यटन रेलों में चयनित। पर्यटन व होटल उद्योग को बढ़ावा देने हेतु अजमेर व उदयपुर में फूड क्राफ्ट इंस्टीट्यूट एवं जोधपुर में होटल प्रबंधन संसधान की स्थापना की गई। जयपुर की हैरिटेज सिटी के रुप में पहचान बनाने के उद्देश्य से यूरोपियन कमीशन द्वारा 2 करोड़ 25 लाख रुपये की हैरिटेज वॉक परियोजना स्वीकृत।
  10. अन्य विकास:-प्रथम चरण में 4173 नए पुस्तकालय व वाचनालयों की स्थापना एवं दव्तीय चरण में उन्हें बढ़कार 5016 नए पुस्तकालय करने की मांग। प्रत्येक ग्राम पंचायत का एक ज्ञान जानकारी केन्द्र बनाने का विस्तार। कारगिल युदव् में शहीदों के परिजनों को 1 लाख रुपये की नकद सहायता राशि साथ ही इंदिरा गांधी नहर परियोजना की 25 बीघा सिंचित भूमि अथवा राजस्थान आवासन मंडल का पांच लाख मूल्य का एक मकान उपलब्ध कराया। 26 शहीद सैनिकों के बच्चों को नि:शुल्क शिक्षा, 148 शहीद परिवारों को रोडवेज यात्रा पास जारी। विधवाओं की सहायता राशि 350 से बढ़कार 700 रुपये प्रतिमाह की गई। अन्तरराष्ट्रीय राजस्थानी सम्मेलन 2000 में जयपुर में आयोजित किया गया। 50 वर्ष पूर्ण होने पर 1999 को राजस्थान स्वर्ण जयंती वर्ष घोषित किया गया व उसे 31 मार्च 2001 तक बढ़ाया गया। स्वतंत्रता सेनानियों की पेंशन 1000 रुपये से बढ़ाकर 1500 रुपये करी गई। राज्य की सांस्कृतिक नीति बनाने के प्रस्ताव जारी किए गए। जयपुर में फिल्मसिटी की स्थापना हेतु 1300 बीघा जमीन आरक्षित करवाई गई। राजस्थान संगीत नाट्य अकादमी द्वारा जोधपुर में लोक कला संग्रहालय की स्थापना की गई।

गत पाँच वर्षों के भीषण अकाल व भयावह की स्थिति के बावजूद भी जिस प्रकार हमारे राज्य ने प्रगति सोपान पर कार्य करा है उससे यह स्पष्ट हो जाता है कि विपरीत परिस्थितियों में भी हमने अपने हिम्मत व साहस के बल पर परिश्रम की सीढ़ियों पर चढ़कर निश्चित ही नए-नए आविष्कार को जन्म दिया व हमारी ढहती हुई अर्थप्रणाली के तंत्र को ओर भी सुदृढ़ बनानें में भागीदारी दी है। कवि ने सत्य ही कहा है-

“वह पथ या पथिक कुशलता क्या

जिसमें बिखरे शूल न हो,

नाविक की धैर्य परिक्षा क्या,

जब धाराएँ प्रतिकूल न हो।”

इन सभी प्रतिकूल धाराओं को सहजता से लेते हुए हमने एक सुदृढ़ राज्य के निर्माण में अपना एक अमीट सहयोग प्रदान किया है।

इस पर बस यही विचार उदरित होता है-

“आज हैं विकास के पाँच वर्ष

आज हैं आत्मनिर्भता के पाँच वर्ष,

आज हैं नि:स्वार्थता के पाँच वर्ष,

आज हैं हमार विजय के पाँच वर्ष।”

इसी विजय पताका के क्रम को निरन्तर बढ़ाते हुए हम इस राज्य के सर्वांगीण को ओर सुदृढ़ बनाते हुए अधिक से अधिक कार्य क्षेत्रों में अपना परचम स्थापित करते हुए ‘सुनहरे राजस्थान की सुनहरे रेती’ को विश्व पन्नों पर अंकित करना हमारा उद्देश्य ही नहीं अपितु हमारा कर्त्तव्य है। आशा है, इस कर्त्तव्य को हम सभी पूर्ण परिश्रम से संचित कर एक नई सुबह का आगाज़ करेंगे।

“जगी नवीन ज़िन्दगी विनाश मौन सो रहा,

नई सुबह खिल रही नया विकास हो रहा।”

“जय हिन्द!

जय राजस्थान !”

*(examrace.com द्वारा निबंध सौजन्य)

इस निबंध की PDF फाइल डाउनलोड करने के लिए इस लिंक पे क्लिक करें

उदाहरण 3 – पुस्तक ज्ञान का स्त्रोत हैं

फ्रांसिस बेकान ने ‘ऑफ स्टेडीस’ में कहा है-

‘some books are to be tasted, others to be swallowed and some few to be chewed & digested’

निश्चित ही आज के परिपेक्ष में यह कथन पूर्णत: सत्य प्रतीत होता है। आज यहाँ हमारे सामने पुस्तकों का अनन्त सागर विद्यमान है, यह ज्ञात करना की कौन सी पुस्तक कितनी महत्त्वापयोगी है अत्यंत ही कठिन है। परन्तु निश्चित ही यह सभी पुस्तकें हमारे लिए कोई-न-कोई संदेश अवश्य प्रदान करती हैं।

सवाल उठता है कि ज्ञान क्या है? ये जड़ हैं या इनकी प्रकृति ही जड़ है जबकि मानव सृजनशील व चिन्तनशील है। जिस प्रकार पत्थर स्वंय में कुछ भी नहीं, उसको उपयोग करने वाला अपनी बुद्धि व कौशल से उसका उपयोग करता है, यह उपयोग ही उसके ज्ञान का मानक है। और निश्चित ही यह ज्ञान उसे अपनी पुस्तकों से ही प्राप्त होता है।

यदि हम आदिम काल पर दृष्टि डाले, तो यह तथ्य हमारे सामने आते हैं कि चीनी, मिश्र, अमेरिकन (इनकास व एजेटेक) व अन्य सभी सभ्यताओं के पुरातत्व अवशेषों में इनकी लिखित रचनाएँ ही हमारे लिए वह उपकरण सिद्ध हुई है जिसके माध्यम से आज हमें इन सभ्यताओं की गहन जानकारी प्राप्त है। यह स्पष्ट करता है कि पुस्तकों का महत्त्व आदिम काल में भी प्रमाणित है।

इसके बाद कई ग्रंथों की रचनाएँ कि गई- रामायण, महाभारत, भगवद् गीता, वेद, पुराण, उपनिषद् सभी ज्ञान के वे अप्रतीम भण्डार है जो शायद आज के परिपेक्ष में सुर्खियों पर हैं। जैसे कृष्ण-अर्जुन संवाद हर बालक की पुस्तक का अभिन्न अंग है।

निश्चित ही यह हमें मानवीय गुणों व भावनाओं की व्याख्या सिखाते हैं, हमारे चरित्र निर्माण में योगदान प्रदान करते है, हमें एक सामाजिक प्राणी के गुणों को आत्मसात् करने का हुनर बताते है, हमारे मस्तिष्क निर्माण की प्रक्रिया को सतत् बनाए रखते हैं, एक बहु-रुपी विकास में सहायक होते हैं, हमारे व्यक्तिगत विकास के सुरों को समाज के सुरों से जोड़ते हैं, हमारी आन्तरिक चेतनाओं की अभिव्यक्ति करते हैं, व्यक्ति का सर्वांर्गीण विकास करते हैं, हमारे सांस्कृतिक संवर्धन का द्योतक हैं एवं मूल्यों के साथ सामंजस्य के उद्बोधक हैं।

किसी भी राष्ट्र का विकास वहाँ के मानव संसाधनों के विकास पर निर्भर करता है। स्वंय मानव संसाधनों के विकास में ज्ञान की भूमिका सर्वोपरि होती है क्योंकि ज्ञान के बिना किसी भी प्रकार का विकास अपने आप में अर्थहीन हो जाता है एवं पुस्तक ही ज्ञान का वह अनन्त भण्डार है। ज्ञान हमें अधिकार, कर्तव्य, समानता, प्रतिष्ठा, सहनशीलता, र्धर्य, आत्मविश्वास, स्वतंत्रता, तथा न्याय आदि की संकल्पना, मूलभूत अधिकार सुरक्षा, शोषण के विरुद्ध अधिकार, संविधानगत उपचारात्मक अधिकार, सामुदायिक अधिकार, मूलभूत कर्त्तव्य संबंधी व्यवस्था, मानवाधिकार तथा दायित्व, राजनैतिक, नैतिक, पर्यावरण संबंधी, वैश्विक दायित्व, विश्व शांति, अंतरराष्ट्रीय सद्भावना, सह-सहिष्णुता आदि का बोध कराता है।

सभी महापुरुष पुस्तकें पढ़कर ही महान् बने हैं और अनन्त: उन्होंने अपने ज्ञान को भी पुस्तकों में ही संकलित किया है।

यह एक शाश्वत सत्य है कि हमारा देह वर्तमान में रहता है, मन भूतकाल में भटकता है और बुद्धि भविष्यकाल में विचरण करती है। यह हमारा ज्ञान ही है जो इन सबके बीच सामंजस्य स्थापित करता है और यह ज्ञान हमें पुस्तकें पढ़कर ही प्राप्त होता है।

अंत में, पुस्तकों के लिए यदि यह कहा जाए तो कोई अतिशयोक्ति नहीं होगी-

“Books to treasure

Books for leisure”

*(examrace.com द्वारा निबंध सौजन्य)

इस निबंध की PDF फाइल डाउनलोड करने के लिए इस लिंक पे क्लिक करें

उदाहरण 4 – भारत में परमाणु ऊर्जा और सामाजिक विकास”

“न हि कश्रित्क्षणमपि जातु तिष्ठत्यकर्मकृत्।

कार्यते ह्यवश कर्म सर्व: प्रकृति जैर्गुणे:।।”

1947 में जब अंग्रेज भारत से विदा हुए तो यहाँ के नेताओं, चितंकों, वैज्ञानिकों एवं समाजशास्त्रियों के लिए एक बहुत ही चुनौती पूर्ण स्थिति में इस देश के विशाल जनसमुदाय को छोड़ गए। इन्हें विरासत में एक ऐसा देश प्राप्त हुआ जो बड़ी जटिल समस्याओं, बीमारियों, गरीबी, भूखमरी एवं अंधविश्वासों से भंयकर रुप से ग्रस्त था। यह इस देश का सौभाग्य था कि इसका नेतृत्व वैज्ञानिक सोच वाले पंडित जवाहर लाल नेहरु के हाथों में आया। उन्हें इस बात का एहसास था कि परमाणु शक्ति के शांतिपूर्ण उपयोग से देश को इस विकट परिस्थिति से शीघ्रता से उबारा जा सकता है। उन्हें इस कार्य को अमली जामा पहनाने के लिए डॉ. होमी जे. भाभा. जैसे प्रतिभावान, राष्ट्र प्रेम से ओतप्रोत एवं निष्ठावान वैज्ञानिक प्राप्त हुए। फलस्वरुप स्वतंत्रता प्राप्ति के एक वर्ष में ही देश के ही- देश के वैज्ञानिकों को परमाणु शक्ति का प्रशिक्षण देने देश के विश्वविद्यालयों एवं शोध संस्थाओं में परमाणु शोध को बढ़ावा देने एवं अणु शक्ति से संबंधित खनिजों का ओद्यौगिक पैमाने पर दोहन करने के लिए, अगस्त 1948 में एटमिक एनर्जी कमीशन की स्थापना की गई।

परमाणु शक्ति के विकास एवं उपयोग के लिए विभिन्न कार्यक्रम बनने लगे। अगस्त 1954 में अणु ऊर्जा कार्यक्रम को लागू करने के लिए जो निष्पादन अभिकर्तत्व (Executive Agency) बनी वह अणु ऊर्जा का विभाग था। तत्पश्चात् तेजी से काम होने लगा। 1957 में मुम्बई के पास ट्रामबे में भाभा अणु शोध केन्द्र की स्थापना हुई जो अणु शोध के कार्य को निर्देशित करने वाला सबसे बड़ा वैज्ञानिक संस्थान है। यह पाँच विभिन्न रिएक्टरों को अपने में सम्मिलित किए हुए है जिनका उल्लेख इस निबंध के अगले भाग में विशेष रुप से किया गया है।

हमारा देश एक कृषिप्रदान देश होते हुए भी यहाँ के लोग आजादी के उन प्रारम्भिक वर्षों में दाने-दाने के लिए तरस रहे थे। भूख से पीड़ित समाज का विकास करना एक बहुत ही कठिन कार्य था। कहा भी है-“भुखे भजन न होत गोपाला”।

अत: जब समाज विकास के बारे में योजनाएँ बनाने लगे तो देश को कृषि उपज में आत्मनिर्भर बनाना ही सर्वप्रथम लक्ष्य निश्चित हुआ। यह कार्य बिना विज्ञान कि सहायता के संभव नही था। अणु शक्ति के उपयोग ने कृषि उपज को बढ़ाने में महत्वपूर्ण योगदान दिया, फलस्वरुप आज एक अरब से अधिक आबादी का मात्र पेट ही नहीं भरता है अपितु लाखों टन अनाज विश्व के अन्य देशों को भी निर्यात किया जाता है। इस बड़ी उपलब्धि के बाद भी हमारे समाज का चौमुखी विकास करने में हम सक्षम हुए हैं।

यह एक स्वंय सिद्ध तथ्य है कि किसी भी देश का विकास बिना विद्युत ऊर्जा के संभव नहीं हैं विद्युत तो मानव को वरदान के रुप में प्राप्त हुई है एवं समाज के हर क्षेत्र में इसकी उपयोगिता में दिन प्रतिदिन वृद्धि होती जा रही है। 1951 से ही देश परमाणु विद्युत उत्पादन कर विद्युत के क्षेत्र में आत्मनिर्भरता प्राप्त करेंगे की राह पर अग्रसर है। आज हमारा देश विश्व के उन सात राष्ट्रों में से एक है जिन्होंने परमाणु विद्युत उत्पादन की नवीनतम तकनीक में प्रवीणता प्राप्त कर ली है। प्रेशराइज्ड हेवी वाटर रिएक्टर (पी.एच.डब्यू. आर.) सिद्धांत पर आधारित रावतभाटा (राजस्थान) नरोरा (उ.प्र.) कलपक्कम (तमिलनाडु) एवं काकरापार (सुरत-गुजरात) के परमाणु एवं अणु बिजलीघर विद्युत उत्पादन कर एसे गाँव-गाँव तक पहुँचाने में सक्षम हैं।

रेडियोधार्मिता के प्रयोग से हमने कृषि, चिकित्सा एवं ओद्यौगिक क्षेत्र में नवीन उपलब्धियाँ प्राप्त की हैंं कृषि के क्षेत्र में पौधों में जीन उत्परिवर्तन, नई किस्मों का निर्माण व उर्वरक की क्षमताओं में वृद्धि आदि से आश्चर्यजनक परिणाम सामने आए हैं। औद्योगिक क्षेत्र में इसका उपयोग पाइपलाइनों के रिसाव को रोकने में, आधारभूत संरचनाओं की जाँच, उपकरणों की जाँच जैसे कार्यों में भी इसका योगदान दर्शनीय है। पृथ्वी का जन्म, पृथ्वी पर मानव के अंश आदि सभी परमाणु तत्वों से किए हुए अनुसंधानों का फल है।

परमाणु बम के जापानी शहरों पर किए गए विस्फोटों ने मानवता को दहला दिया था। विशेष रुप से गरीब एवं अविकसित राष्ट्रों के लिए तो अणुशक्ति एक दानवीय शक्ति के रुप में माने-जाने लगी थी। भारत के इस शक्ति के शांतिपूर्ण उपयोगों ने इन राष्ट्रों के लिए अपने विकास हेतु आशा की किरणें प्रस्फुटित की हैं।

“सूरज हूँ चमक छोड़ जाँऊगा, डूब भी गया तो सबक छोड़ जाँऊगा”

“मूलभूत अनुसंधान व अनुबंध शिक्षा संबंध”

परमाणु ऊर्जा आयोग, 1948 के तत्वाधान में गठित परमाणु ऊर्जा विभाग, 1954 की विभिन्न नीतियों का निर्धारण किया गया, यह मुख्यत: अनुसंधान व विकास, परमाणु ऊर्जा संबंध एवं औद्योगिक क्षेत्रों में विकास के हेतु कार्यरत हैं।

अनुसंधान व विकास, परमाणु ऊर्जा कार्यक्रम का एक महत्वपूर्ण भाग हैं जो विभिन्न परम्पराओ दव्ारा अपने कार्यो का संचालन कर रहा है। इस कार्यक्रम की सफलता हेतु हर निम्न संस्थाएँ कार्यरत है-

  1. भाभा परमाणु अनुसंधान केन्द्र (बार्क), ट्रामबे-मुम्बई
  2. इंदिरा गाँधी परमाणु अनुसंधान केन्द्र (इग्कार) कलपक्कम, तमिलनाडु
  3. आधुनिक अनुसंधान केन्द्र (कैट), इन्दौर, म.प्र.
  4. परिवर्तन ऊर्जा, साइक्लोट्रोन केन्द्र, कलकत्ता, प. बंगाल

बार्क का गठन 1957 में परमाणु ऊर्जा केन्द्र, ट्रामबे के रुप में हुआ था। तत्पश्चात् 1967 में इसका नाम (बार्क) भाभा परमाणु अनुसंधान केन्द्र के रुप में सामने आया। यह नाम डॉ. होमी.जे.भाभा के नाम पर रखा गया है जो कि आज अनुसंधान का एक प्रमुख केन्द्र है।

इन अनुसंधान कार्यो के तहत अनेक कार्य किए गए

  1. देश का पहला अनुसंधान रिएक्टर अप्सरा 1956 में स्थापित किया गया जिसकी क्षमता एक मैगावाट थी।
  2. सिरस- 40 मैगावाट की क्षमता का एक अनुसंधान रिएक्टर है जो तारापूर में 1960 में स्थापित किया गया था। इसका मुख्य कार्य अनुसंधान, शोध, प्रयोग, प्रशिक्षण के साथ-साथ आईसोटोप का निर्माण करना है।
  3. पूर्णिमा 1-एक प्लूटोनियम पर आधारित रिएक्टर है जो ट्रामबे में स्थित है
  4. पूर्णिमा 2- यह पूर्णिमा 1 का रुपांतरित प्रकार है जो u-233 का प्रयोग करता है।
  5. ध्रुव-एक स्वनिर्मित 100 मेगावाट की क्षमता का रिएक्टर है जो 1985 में नाभिकी भौतिक एवं आइसोटोप निर्माण में सहायक है।
  6. कामिनी- कलपक्कम में एक न्यट्रोन स्त्रोत रिएक्टर है।

बार्क ने टाटा मूलभूत अनुसंधान संस्थान के सौजन्य से 14 मैगावाट की क्षमता वाले एक पैलिट्रान एक्सेलेटर की स्थापना की है साथ ही बैरिलियम संयत्र उवं रेडियो फार्मास्यूटिकल प्रयोगशाला, वाशी नई मुम्बई का भी गठन किया है। परिवर्तित ऊर्जा साइक्लोट्रोन केन्द्र कलकत्ता नाभिकी रसायनिक एवं रेडियोधर्मी हानि अध्ययन के क्षेत्र में कार्यरत है। सेस्मिक एक्टिविट मॉनीटरिंग स्टेशन, गौरीबीदनूर, बंगलौर विश्व के किसी भी स्थान में किए गए भूमिगत परमाणु विस्फोट की जानकारी प्रदान करता है।

परमाणु अनुसंधान प्रयोगशाला श्रीनगर एवं उच्च एल्टिटूराड अनुसंधान प्रयोगशाला गुलमर्ग जम्मू कश्मीर वायुमण्डलीय भौतिकी व कास्मिक रे भौतिकी में अनुसंधान कार्यों में कार्यरत है।

विकिरण औषधि केन्द्र, मुम्बई रेडियोधार्मीक आइसोटोप से चिकित्सा कार्य में प्रयोग के अनुसंधान में कार्यरत है।

फार्मास्यूटिकल उत्पादन सुविधाएँ वाशी बंगलौर एवं हैदराबाद में उपलब्ध हैं। ट्रामबे में आइसोमेड स्टरलाइजेशन संयत्र भी कार्यरत है।

बार्क सम्पूर्ण विश्व कि हित में उच्च ताप सुपर कंडकटर के निर्माण में कार्य कर रहा है। और इस क्षेत्र में कुछ सफलताएँ भी प्राप्त की है जैसे एक ही तत्त्व जो बिस्मिभ-लैड-कैल्शयम-स्ट्रानशियम आक्साइड का जिसका ताप Tc-120k है। बार्क कोल्ड प्यूजन के क्षेत्र में आई.आई.टी मद्रास की मदद से प्रयोग में कार्य कर रहा है।

बार्क के शोध से यह सिद्ध हुआ है कि डूट्रान डूरट्रान की क्रिया से ट्रिटियम मिलता है, न की न्यूट्रान।

एक अन्य शोध कार्य में बारीक कणों व विकरणों से प्लाजमा प्यूजन अनुसंधान से प्लस पावर एवं पारटिकल बीम टेकनोलोजी की शोध पर भी कार्य चल रहा है।

आदित्य प्लाजमा अनुसंधान केन्द्र गाँधीनगर, अहमदाबाद में स्थापित एक स्वचालित रिएक्टर है जो पाँच मिलियन डिगर सेलसियस पर भी प्लाजमा का निर्माण करने में सक्षम है। इस रिएक्टर के द्वारा किए गए शोध विश्व प्यूजन अनुसंधान कार्यक्रम का एक महत्वपूर्ण अंग बन गए है।

इंदिरा गाँधी परमाणु अनुसंधान केन्द्र मुख्यत: एफ.बी.टी.आर. टेकनोलॉजी से संबंधित है। भारत में एफ.बी.टी.आर. का प्रयोग अक्टूबर 1985 से शुरु हुआ। यह एक स्वनिर्मित उपकरण है जो सोडियम-कारबाइड का उपयोग करता है।

इसका निर्माण फ्रैंच रेपसोडाइ रिएक्टर की प्रतिभूमिका पर हुआ था एवं इसकी क्षमता एक मैगावॉट के लगभग है। इसका उद्देश्य मुख्यत: सामग्रियों को इरेडियेशन क्षमता का पता करना एवं इन्हें लिक्विड मेटल कूल्ड फास्ट ब्रीडर रिएक्टर के अंदर परखा जाता है।

इग्कार ने अनेक ऐसे संवेदनशील सेंसरों का निर्माण किया है जो लिक्विड सोडियम जो कि परमाणु रिएक्टर में कूलेंट के रुप में प्रयोग में आता है कि शुद्धता की जाँच कर सकें।

500 मैगावॉट की क्षमता वाले एफ.बी.टी.आर. प्रोटोटाइप की संरचना नई शताब्दी तक तैयार होने की संभावना है।

कैट, इंदौर अनुसंधान के क्षेत्र में फ्यूजन, लेजर व एक्सलेटर पर कार्यरत है। हाल ही सिनक्रोट्रान विकिरण व उच्च रुप से निर्मित वर्सेटाइल लेजर का निर्माण किया गया है जो 70 वॉट व 400 वॉट कार्बन डाइआक्साइड लेजर के रुप में कार्य कर रहा है।

बार्क ने तकनीकी विकास से कूलेंट के जीवन काल में वृद्धि कर-भारत को इस तकनीकी तक पहुँचाने वाला दूसरा देश बना दिया है।

एक नई प्रणाली जिसे कूलेंट चैनल रिप्लसमेंट मशीन (सी.सी.आर.एम.) के नाम से जाना जाता है का निर्माण किया है एवं इसके हेतु एक नए संमिश्रण का निर्माण किया है जिसकी कार्य अवधि तीस साल मापी गई है।

मेपस-11 भारत का प्रथम चालित रिएक्टर है जो स्वनिर्मित तकनीकों का पूर्ण प्रयोग कर सकता है।

बार्क ने भारत के परमाणु ऊर्जा कार्यक्रम को बढ़ाने के लिए एक नए ऊर्जा रिएक्टर की नींव रखी है जिससे कि परमाणु आधारभूत ढाँचा फिजन ऊर्जा को प्राप्त कर सके इस क्षेत्र में अ’ घोरीयम ब्रीडर रिएक्टर’ (ए.बी.टी.आर.) की विचार धारा पर शोध किया जा रहा है।

4 जून, 1999 को परमाणु ऊर्जा विभाग ने सिंक्रोट्रान विकिरण स्त्रोत इंदस-1 को इंदौर में शुरु किया। यह अनुसंधान कार्य क्षेत्रों में मदद प्रदान करने में संभव होगा। यह विकिरण स्त्रोत अब तक सभी स्त्रोतों में से सबसे अधिक चमकीला है व इसके कण बिजली की गति के साथ चलते हैं और चुम्बकिय क्षेत्र में पहुँचने पर अपने मार्ग से दूर हो जाते हैं। यह यंत्र तीन एक्सलेटरों से मिलकर बना हैे माइक्रोटोन, बूस्टर सिंक्रोट्रान एवं स्टोरेज रिंग। इससे इलेट्रान व माइक्रोट्रान की गति को बढ़ाया जाता है ताकि वे गतिशील होकर अधिकाधिक ऊर्जा प्रदान कर सकें।

अनुपम एक अत्याधूनिक सुपरकम्पूटर है जो परमाणु नाभिकी तकनीक का ही फल है।

इस क्षेत्र में प्रमख अनुसंधान का कार्य परमाणु ऊर्जा विद्युत उत्पान का ही रहा है। यह विद्युत उत्पादन मुख्यत: रावतभाटा (राजस्थान) नरोरा (उत्तर प्रदेश), कलपक्कम (तमिलनाडु) एवं काकरापार (सूरत-गुजरात) हैं। रावतभाटा में खराब हुए संयत्र एवं ईकाई का कार्य भारतीय वैज्ञानिकों के सामने एक चुनौती के रुप में आई। परन्तु डॉ चतुर्वेदी के निर्देशन व प्रशिक्षण में हमारे देश के वैज्ञानिकों ने बाहरी सहायता के बिना ही उस ईकाई को ठीक किया और वह भी बताई लागत के एक तिहाई में।

दी गई शोध संस्थाएँ अनेक ऐसे कार्यों में जुटी हुई हैं जो मानव जीवन के अनेक पहलूओं में हमारी ज़िंदगी को आसान बनाने के लिए तत्पर हो। ‘आवश्यकता आविष्कार की जननी है।’ जैसे-जैसे हमारी आवश्यकता बढ़ती जाती है मानव उन आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए अपनी बुद्धि के बल पर अनुसंधान कर आविष्कारों को जन्म देता है और फलस्वरुप अपनी आवश्यकताओं की पूर्ति करता है।

यह आविष्कार एवं अनुसंधान तब तक संभव नहीं है जब तक एक विकसित मस्तिष्क इस कार्य को करने में नहीं लगे। सामान्य विज्ञान की गुढ बातों का अध्ययन ही मस्तिष्क को परिपक्व बना सकता है, उस बात पर मनुष्य सोच विचार कर सकता है, एक नए सिंद्धांत का प्रतिपादन कर सकता है और अतंत: एक अनुसंधान में लग सकता है।

परमाणु विज्ञान एक ऐसी शाखा है जो विज्ञान के प्रत्येक प्रकार को संजोती हुई एक स्वतंत्र शाखा के रुप में विकसित हो चली। यह भौतिक, रासयनिक, जैविक एवं समस्त शाखाओं के अंश को लेकर एक अलग शाखा के रुप में विकसित हुई है जो आज के युग का एक महत्त्वपूर्ण अंग है।

भौकित विज्ञान से संबंध:- परमाणु क्रियाओं से बाइंडिग ऊर्जा का रिसाव होता है जो धीरे-धीरे ताप व गर्मी में बदलती हे और इस ऊर्जा के बल पर अनेक बिजली के उपकरण कार्य करते है, और यदि यह ऊर्जा यकायक निकल जाती है तो परमाणु विस्फोटक के रुप में कार्य करती है।

आइंसटिन ने 1905 में ऊर्जा व पदार्थ के बीच सामंजस्य स्थापित किया और E=mc2 का सिद्धांत दिया। इसके अनुसार ऊर्जा व पदार्थ। द्रव्य आपस में परिवर्तनशील है। ऊर्जा पदार्थ में बदल सकती है और पदार्थ ऊर्जा के रुप में प्रकट हो सकता है। इसी के आधार पर परमाणु बम का सिद्धांत प्रकट हुआ। बम रुपी पदार्थ विस्फोट के पश्चात् ऊर्जा में बदल जाता है।

चैन रिएक्शन के अनुसार एक अणु दो में टूटता है, दो-चार में और यह क्रम चलता रहता है। इस प्रकार से परमाणु विज्ञान का भौतिकी से गहरा संबंध है।

रसायन विज्ञान से संबंध:-रसायन विज्ञान में अणुओं की विवेचना का अध्ययन किया जाता है। परमाणु प्रकिया में एक अणु न्यूट्रान से प्रक्रिया करके या तो छोटे-छोटे टुकड़ों में बिखरता है या उन सब का समावेश करके एक बड़े टुकड़े का निर्माण करता है। U-238 में 92 प्रोट्रोन एवं 146 न्यूट्रान होते हैं जो उसके नाभिकी में उपस्थिति होते हैं। बाहरी न्यूट्रान के आने पर इनका सामंजस्य बिगड़ जाता है और ये टूटकर ऊर्जा निकालते हैं। नाभिकी संरचना के आधार पर ही वैज्ञानिक इस निष्कर्ष पर पहुँचते है कि यह परमाणु फ्यूजन रिएक्शन देगा अथवा फिशन रिएक्शन। रसायन विज्ञान की सहायता से ही हम उसका भार व परमाणु संख्या ज्ञात कर सकते हैं। परमाणु रसायनिक एक उभरता हुआ क्षेत्र है जिसमें अनेकानेक रासायनिक गतिविधियों की सहायता से निष्कर्ष पर पहुँचा जाता है।

परमाणु की संख्या, भार, उसका चट्टानों में पाया जाना, सांद्रता आदि सभी रासायनिक परिवेश को उजागर करते है। क्रिया के पूरी होने के बाद निकली हुई ऊर्जा से वायुमंडल पर प्रभाव, ब्रीडर रिएक्टर कर निर्माण, कंट्रोल रोड, इंधन आदि सभी का रासायनिक गुण दोष ही क्रिया को प्रभावित करता है। द्रव्यों का ऊर्जा से बनाना भी एक रासायनिक प्रक्रिया ही दर्शाती है अत: इसका रसायनिक विज्ञान से गहरा संबंध है।

जीव विज्ञान से संबंध:- परमाणु ऊर्जा के फलस्वरुप कृषि व चिकित्सा क्षेत्र में अनेक परिवर्तन दर्शनीय है। परमाणु ऊर्जा के प्रयोग से जीनों का उत्परिवर्तन किया जा सकता है अच्छी किस्म के पौधों व बीजों को तैयार किया जा सकता है, चिकित्सा के क्षेत्र में रोगों की जाँच व बीमारियों का पता लगाना आसान हो जाता है, परमाणु ऊर्जा के प्रयोग से नई औषधियों का विकास संभव है। इस प्रकार यह जीव विज्ञान को प्रभावित करता है। परमाणु ऊर्जा से वायु प्रदूषण, जल प्रदूषण की समस्याएँ भी उत्पन्न होती है। भूमिगत गड्ढों में परमाणु कचरे को दबाने से मिट्टी की उर्वरक क्षमता में कमी होती है। यह मानव शरीर को भी हानि पहँुचाते हैं। मुख्यत: चमड़ी रोग, नाड़ी रोग, तंत्रिका रोग एवं कैंसर जैसी घातक बीमारी भी मनुष्य को हो सकती है। जीन उत्परिवर्तनों से होने वाली संतानों में कई बीमारियाँ पाई जाती है। बच्चे जन्म से ही अपाहिज हो सकते है। इस प्रकार परमाणु विज्ञान ऊर्जा का जीवविज्ञान पर बहुत गहरा प्रभाव पड़ता है और साथ ही इसके साथ संबंध स्थापित हो जाता है।

अनुसंधानों का कोई अंत नहीं है। परमाणु बिजली घरों में कार्यरत कर्मचारियों को अनेक प्रकार के रोग से बचाने के लिए भी अनुसंधान कार्य किया जा सकता है। तत्त्वों को क्रिया कर के ऐसा करना, जिससे उनकी कार्यक्षमता वही रहे परन्तु बुरे प्रभावों व विकिरणों में कमी आ सके।

ऐसी तकनीक का विकास करना जिससे अधिक से अधिक रेडियोधर्मी पदार्थों को चट्टानों से पृथक किया जा सके। इस प्रकार के अनेक अनुसंधान के विषय है जिन पर हमारे भावी वैज्ञानिकों का ध्यान आकर्षित करना होगा।

परमाणु ऊर्जा इस शताब्दी का वह महत्त्वपूर्ण अंश बन चुका है कि हर नागरिक को यह पता होना चाहिए की परमाणु ऊर्जा का क्या कार्य है।

आम मनुष्य के मस्तिष्क पटल पर परमाणु शब्द सुनते ही हिरोशिमा व नागासाकी की दर्द त्रास्दी का चित्र उभरने लगता है और वह बोखला उठता है। भारत दव्ारा 1998 में किए गए परमाणु परिक्षण भी कई लोगों के लिए चिंता का विषय बन गए थे। अत: यह अत्यंत आवश्यक है की सभी मनुष्यों को इस बात की पूर्ण जानकारी हो और इसे विवादस्पद नही बनाए।

देश में अनुसंधान की आवश्यकताएँ बढ़ती रहती है क्योंकि हमारा देश एक विकासशील व प्रगतिशील देश है। इसलिए यह अत्यंत आवश्यक है कि विद्यालय एवं महाविद्यालय स्तरों पर परमाणु ऊर्जा विषयक विविध जानकारी छात्र-छात्राओं को प्रदान की जाएँ और नई-नई तकनीकों से अवगत कराया जाए, उन्हें अपने बौद्धिक स्वर का उपयोग करने का मौका दिया जाए, विज्ञान विषयक प्रश्नोत्तरी का आयोजन हो, छात्र-छात्राओं में विज्ञान के प्रति रुझान पैदा किया जाए और इन सभी बातों को ध्यान में रखकर ही हम एक विकसित देश बन सकेंगे। छात्र-छात्राओं को यह समझाना आवश्यक है कि वैज्ञानिक जन्म से नहीं होते अपितु परिस्थितियों से समझौता करके अपने अधिक परिश्रम के बल पर ही वे सफलता अर्जित करते हैं। रुझान जन्म से नहीं होता अपितु पैदा करने से बनता है। विज्ञान के इस युग में हमें समय के साथ चलना अत्यंत आवश्यक है और लक्ष्य प्राप्ति के लिए प्रयत्नशील रहना भी। स्वामी विवेकानंद ने सत्य ही कहा है-

“उत्षिठत जाग्रत प्राप्यविरान्बोधत्”

अर्थात् – उठो, जागो और तब तक नहीं रुक जब तक लक्ष्य प्राप्त न हो ।

*(examrace.com द्वारा निबंध सौजन्य)

इस निबंध की PDF फाइल डाउनलोड करने के लिए इस लिंक पे क्लिक करें

**दोस्तों हो सकता है की ये निबंध आपके परीक्षा में पूछे जाने वाले निबंधों की शब्द सीमा से ज़्यादा हो। लेकिन हमारा आपको ये सुझाव है की इन सब को एक बार अवस्य पढ़ें क्योकि इससे आपको एक अनुभव मिलेगा।

Essay Writing Tips For Competitive Exams In Hindi

आपके अभ्यास के लिए प्रतियोगी परीक्षाओं में पूछे गए कुछ निबंध विषय “latest essay topics for competitive exams in hindi” :

  • गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स (GST) के लाभ
  • भारत में पहली बुलेट ट्रेन
  • भारत में प्रदूषण
  • कन्या भ्रूण हत्या – एक अभिशाप
  • बाल श्रम
  • महिला सशक्तिकरण
  • आतंकवाद के प्रभाव
  • शिक्षा का अधिकार
  • सूचना का अधिकार
  • भारत में शिक्षा का निजीकरण
  • आपकी पसंदीदा किताब और आपके जीवन पर इसका असर
  • डिजिटल इंडिया
  • स्वच्छ भारत अभियान
  • इंटरनेट – समाज के लिए वरदान या अभिशाप है?
  • क्या हम प्राकृतिक आपदाओं के लिए जिम्मेदार हैं?
  • आपका रोल मॉडल
  • समय का मूल्य
  • स्वास्थ्य या धन – क्या महत्वपूर्ण है?
  • महत्वपूर्ण योजनाएं (बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ, स्वच्छ भारत अभियान, आदि)
  • मेरा पसंदीदा खेल
  • अनेकता में एकता
  • ट्रिपल तलाक

हमारी टीम से कनेक्ट हो कर आप और ज्यादा Study Material प्राप्त कर सकते हैं।

फेसबुक ग्रुप – https://www.facebook.com/groups/howtodosimplethings

फेसबुक पेज – https://www.facebook.com/notesandprojects

व्हाट्सप्प ग्रुप –https://chat.whatsapp.com/5HCimOvK4gk3npCMtXhrPU

टेलीग्राम चैनल – https://t.me/notesandprojects

इन्हे भी पढ़ें :

  1. Speedy Current Affairs {सामान्य ज्ञान की लेटेस्ट} 2018 In Hindi Pdf Free
  2. How To Study Indian History Easily (In Hindi)

  3. How To Prepare For NDA 2018 {**हिंदी में**}

  4. Current Affairs 2018 PDF In Hindi
  5. Current Affairs PDF 2018 In English

  6. Sam Samayik Ghatna Chakra 2018 pdf Current Affairs June 2018 Magazine Hindi
  7. {जागरण जोश 2018} Current Affairs June 2018 Magazine English
  8. Jagran Josh Current Affairs May In Hindi PDF Free Download

  9. {जागरण जोश 2018} Current Affairs April 2018 Magazine Hindi PDF

  10. Samanya Gyan Darpan June 2018 {सामान्य ज्ञान की लेटेस्ट} in Hindi free Pdf
  11. {** तर्कशक्ति **} Kiran Reasoning Book – Verbal And Non Verbal PDF Download
  12. Yojna (योजना) From Jan To May 2018 In Hindi PDF Download | Monthly Magazine For All Competitive Exams
  13. BSC Magazine For Current Affairs May-2018 Edition In English- Banking Services Chronicle PDF Download
  14. BSC Magazine June 2018 In Hindi-Banking Services Chronicle Free PDF Download
  15. Samanya Gyan Sar Sangrah Pdf In Hindi
  16. An Introduction Of India | भारत-एक परिचय
  17. Download General Studies SSC CGL Cracker PDF
  18. Pratiyogita Darpan Sar Sangrah In Hindi Pdf
  19. Lucent Samnya Gyan {सामान्य ज्ञान} Book PDF Download
  20. Speedy Mastering Samanya Adhyayan In Hindi PDF Download
  21. Lucent Computer Book In Hindi Pdf Download
  22. Lucent General Science Book Pdf In Hindi {भौतिक और जीव विज्ञान}
  23. Download Tricky GK Book In Hindi PDF
  24. Download 5000+ SSC CHSL GK Question Notes PDF  {हिंदी}
  25. Largest In World | Largest In India | Handy GK Notes
  26. GK 2018 Question And Answer In Hindi Pocket Book Free Download {समान्य ज्ञान की पॉकेट बुक}
  27. Best GK Tricks By Nitin Gupta PDF In Hindi Download
  28. Speedy Publication GK Book PDF In Hindi {रेलवे के लिए}
  29. Download Pratiyogita Darpan June 2018 PDF Magazine In Hindi & English {** प्रतियोगिता दर्पण जून 2018**}
  30. History Study Material For Competitive Exams PDF
  31. Sam Samayik Ghatna Chakra GS Pointer PDF Download {GS प्वाइंटर-6 पूर्वावलोकन सामान्य विज्ञान (भौतिक विज्ञान)}
  32. Sam Samayik Ghatna Chakra 2018 PDF

दोस्तों NotesAndProjects.com की टीम आशा करती है की आपको हमारा ये आर्टिकल पसंद आया होगा।

अगर आपका कोई सुझाव या प्रश्न है या आपको किसी विशिष्ट अध्ययन सामग्री की आवश्यकता है तो कृपया नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स का उपयोग करके हमें बताएं। क्योंकि आपकी प्रतिक्रिया हमारे लिए बहुत महत्वपूर्ण और उपयोगी है

Notes And Projects.com आपको आगामी प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए शुभकामनाएं देता है।

2 thoughts on “Essay Writing Tips For Competitive Exams In Hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *